नोएडा: नोएडा से बीजेपी विधायक पंकज सिंह को मोबाइल पर मिली धमकी के मामले में रविवार को नोएडा पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली है. पंकज सिंह गृहमंत्री राजनाथ सिंह के बेटे हैं. इस मामले की एफआईआर नोएडा के थाना सेक्‍टर 20 में दर्ज की गई है. पंकज सिंह को 22 मई को उनके मोबाइल पर वाट्सएप के जरिये धमकी दी गई थी. साथ ही उनसे 10 लाख रुपये की रंगदारी भी मांगी गई थी.Also Read - सुहागरात पर दूल्हे ने दोस्तों को सौंप दी अपनी नई नवेली दुल्हन, नशीली दवा खिलाकर किया गैंगरेप

Also Read - सपा के शासन में जाली टोपी वाले गुंडे व्यापारियों को धमकाते थे, UP Dy CM केशव मौर्य

आज ही हुआ ये खुलासा Also Read - PM मोदी 7 दिसंबर को यूपी के गोरखपुर में 9600 करोड़ के प्रोजेक्‍ट्स देश को समर्पित करेंगे, AIIMS का भी उद्घाटन करेंगे

पंकज सिंह को 22 मई को वाट्सऐप के जरिये धमकी दी गई थी. उनसे 10 लाख रुपये रंगदारी मांगी गई. पंकज सिंह ने वाट्सऐप पर धमकी मिलने के बाद नोएडा के पुलिस अधिकारियों को सूचित किया था. पुलिस मामले की जांच कर रही है. बता दें कि आज ही उत्तर प्रदेश के विधायकों को धमकी के प्रकरण में एक चौंकाने वाला तथ्य सामने आया है. जांच एजेंसियों को पता लगा है कि 22 विधायकों को रंगदारी के लिए भेजी गई धमकी में जिस खाते का जिक्र था, उस ‘क्रिप्टो करेंसी (बिटक्वाइन) खाते’ में आठ लाख रूपए से अधिक की रकम का लेन-देन हुआ है.

यूपी: BJP विधायकों को धमकी मामले में चौंकाने वाला खुलासा, खाते में बिटक्वाइन के जरिए गए 8 लाख रुपए

25 विधायकों को मिल चुकी है धमकी

गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों में योगी सरकार के कई विधायकों को धमकी मिली है. यूपी में अब तक लगभग 2 दर्जन से अधिक विधायकों को धमकी मिल चुकी है. योगी सरकार ने मामले की गंभीरता को देखते हुए जांच के लिए एसआईटी का गठन कर दिया है. इन नेताओं से मैसेज के जरिए 3 दिन के अंदर 10 लाख की रंगदारी देने को कहा गया है. 3 दिन में पैसा न देने पर परिजनों की हत्या करने की धमकी दी गई है. प्रदेश के नेताओं में इन धमकियों को लेकर हड़कंप मचा हुआ है.

अब गृह मंत्री राजनाथ सिंह के विधायक बेटे को वाट्सऐप पर मिली धमकी, रंगदारी मांगी

10-10 की मांगी जा रही रंगदारी

प्रदेश के बीजेपी नेताओं को मैसेज भेजकर 10-10 लाख रुपये की रंगदारी मांगी गई है. विधायकों को भेजे गए सभी संदेशों की भाषा एक जैसी है. विधायकों की शिकायत के बाद जांच में जुटी पुलिस टीम ने इन मैसेज के पीछे खाड़ी देश में छिपे अपराधी अली बाबा बुद्धेश के हाथ होने की आशंका जताई है. हालांकि जांच के लिए गठित टीम शरारती तत्वों की भूमिका के ऐंगल से भी मामले को खंगालने की कोशिश कर रही है. धमकी से डरे हुए कई विधायकों ने सीएम योगी आदित्यनाथ और गृह विभाग से इस मामले की शिकायत करते हुए त्वरित कार्रवाई की मांग का है.

यूपी में विधायक भी नहीं सुरक्षित, 48 घंटे में दो बीजेपी विधायकों को जान से मारने की धमकी

अब तक इन विधायकों को मिल चुकी है धमकी

सीतापुर के महोली सीट से विधायक शशांक त्रिवेदी, बुलंदशहर के डिबाई क्षेत्र से विधायक डॉ. अनिता लोधी, मोहम्मदी लखीमपुर-खीरी के विधायक लोकेंद्र प्रताप सिंह, शाहजहांपुर के कटरा क्षेत्र से विधायक वीर विक्रम सिंह, गोंडा (मेहनौन) के विधायक विनय कुमार, गोंडा तरबगंज के विधायक प्रेम नारायण पांडेय, फरीदपुर के श्याम बिहारी लाल, कानपुर देहात के भोगनीपुर से भाजपा विधायक विनोद कटियार, ददरौल विधायक मानवेंद्र सिंह, बिसौली विधायक आरके शर्मा, पूर्व विधायक राजेश त्रिपाठी, भाजपा के पूर्व प्रदेश कार्य समिति सदस्य सुशील चौरसिया को धमकी मिल चुकी है.