लखनऊ: विश्व हिन्दू परिषद के पूर्व नेता प्रवीण तोगड़िया ने केंद्र की नरेन्द्र मोदी सरकार पर निशाना साधा हैं. उन्होंने मोदी सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि उसने अयोध्या, काशी और मथुरा में मंदिर निर्माण के लिए कानून नहीं बनाया. तोगड़िया ने मंगलवार को लखनऊ में प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि मोदी सरकार ने अयोध्या में मंदिर निर्माण के लिए अब तक कुछ नहीं किया. केंद्र की भाजपा सरकार ने अयोध्या, काशी और मथुरा में मंदिर निर्माण के लिए कानून ना बनाकर करोड़ों हिंदुओं के के साथ छल किया है. Also Read - केंद्र सरकार पर कांग्रेस का आरोप, डर कर बदला दवा देने का फैसला, 1971 में इंदिरा गांधी ने दिया था करारा जवाब

अयोध्या तक निकालेंगे मार्च
नई पार्टी अंतरराष्ट्रीय हिन्दू परिषद का गठन करने वाले तोगड़िया ने कहा कि उन्होंने खुद राम मंदिर संबंधी कानून का मसविदा तैयार किया है. चूंकि सरकार अन्य कार्यों में बहुत व्यस्त है इसलिये उसे इस कानून को संसद में पारित कराना चाहिए. उन्होंने कहा कि आज वह अयोध्या जाकर इस मसविदे को रामलला के चरणों में रखेंगे. अक्टूबर में वह और उनके संगठन के लोग लखनऊ से अयोध्या तक अयोध्या मार्च निकालेंगे. Also Read - पीएम मोदी को पसंद आई बॉलीवुड शार्ट फिल्म 'फैमिली', लोगों से कहा जरूर देखें, बहुत बड़ा मैसेज छिपा है

राम मंदिर के उठाएंगे आवाज
तोगड़िया ने कहा कि राम मंदिर निर्माण के लिए जनता की तरफ से आवाज उठाई जाएगी. वह मंदिर निर्माण के मसविदे पर हस्ताक्षर अभियान के तहत 20 करोड़ हिन्दुओं का समर्थन प्राप्त करेंगे. उसके बाद इसे मोदी सरकार के पास भेजा जाएगा, ताकि उसे संसद में पारित कराया जाए. Also Read - कोरोना वायरस के खौफ में हौसला बढ़ाएगा ये गाना, बॉलीवुड हस्तियों ने मिलकर गाया-फिर मुस्कुराएगा इंडिया

सबका साथ, सबका विकास पर विश्वास नहीं
विश्व हिन्दू परिषद के पूर्व नेता तोगड़िया ने कहा कि हमें ‘सबका साथ, सबका विकास‘ पर विश्वास नहीं है बल्कि ‘हिन्दू विकास‘ ही हमारा नारा है.

हिंदुओं के लिए काम करेगा तोगड़िया का संगठन
तोगड़िया ने कहा कि उनके संगठन की टीम नई है, लेकिन तेवर वही पुराने हैं. यह संगठन देश-विदेश की सभी जातियों, व्यवसायों, भाषाओं, राज्यों, पंथों तथा लिंग के हिन्हुओं के धार्मिक, सामाजिक, आर्थिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक अधिकारों के लिए काम करेगा.

ऐसे छोड़ी विहिप
विश्‍व हिन्‍दू परिषद के चुनाव में अपने नजदीकी रहे राघव रेड्डी से हारने के बाद वे बीते 17 अप्रैल को अहमदाबाद में अनिश्चितकालीन हड़ताल पर बैठे थे. बाद में उन्होंने विहिप छोड़कर नया संगठन बनाने की घोषणा की थी. (इनपुट- एजेंसी)