प्रयागराज (यूपी): हनुमान जी दलित होने के कथित बयान पर मचे बवाल के बाद अब सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने बयान का बचाव किया है. प्रयागराज में एक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने कहा कि जिन्हें धर्म के बारे में जानकारी नहीं है, वही लोग हंगामा कर रहे हैं. उनकी बात का बेवजह बाल की खाल निकाली जा आ रही है. उन्होंने कहा कि ऐसे लोग संकीर्ण मानसिकता के शिकार हैं. हालांकि सीएम ने हनुमान जी के दलित होने की बात को नहीं दोहराया और न ही हनुमान का नाम लिया. सीएम योगी कुंभ को लेकर हुए एक कार्यक्रम में प्रयागराज में मौजूद थे.

‘दलितों के देवता बजरंग बली का मंदिर है हमारा’, लखनऊ में दलित समाज का दावा

सीएम योगी ने कहा कि कमियां निकालना आसान होता है. उन्होंने कहा कि किसी भी काम पर उंगली उठाना आसान होता है, लेकिन उसे पूरा करना मुश्किल. सभी लोग अपनी कमियां दूर करें और गलतियों से सीखें तो देश दिव्य हो सकता है. सीएम योगी ने कहा कि कुंभ का आयोजन इस बार भव्य होगा. दुनिया की नजरें इस आयोजन पर हैं. भव्यता के कई रिकॉर्ड बनेंगे. सीएम योगी ने महंतों से कुंभ की तैयारियों की जानकारी ली. सीएम योगी प्रयागराज से तेलंगाना में चुनाव प्रचार के लिए रवाना हो गए.

VIDEO: हनुमान जी दलित नहीं जनजाति वर्ग से थे, राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष का दावा

बता दें कि कुछ दिन पहले सीएम योगी आदित्यनाथ का हनुमान जी के दलित होने का कथित बयान सामने आया था. इसे लेकर जमकर बवाल मचा. लखनऊ में दलितों ने एक हनुमान मंदिर पर दावा ठोकते हुए अपना बता दिया. विपक्ष भी योगी के इस बयान को लेकर हमलावर है. खुद बीजेपी नेताओं और कई संतों ने भी बयान का खंडन किया. बीजेपी के कुछ नेताओं का कहना था कि योगी के बयान को तोड़-मरोड़कर कर पेश किया गया.

बीजेपी विधायक बोले, धरती के सबसे पहले आदिवासी नेता हैं हनुमान