लखनऊ : वाराणसी पुल हादसे को लेकर कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को निशाने पर लिया. चूंकि वाराणसी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र है और इतने बड़े हादसे के बावजूद अब तक पीएम द्वारा अपने संसदीय क्षेत्र का खुद से दौरा न करने को लेकर उत्तर प्रदेश कांग्रेस ने कहा कि, “प्रधानमंत्री सारी मानवीय संवेदनाओं से परे, मात्र भाजपा के चुनावी रोबोट होकर रह गए हैं. वरना ऐसे कैसे हो सकता है कि उनके संसदीय क्षेत्र वाराणसी में इतने भीषण हादसे के बावजूद वो उस क्षण नई दिल्ली स्थित भाजपा के फाइव स्टार कार्यालय में कर्नाटक की जीत का जश्न मना रहे थे.” Also Read - नवजोत सिंह सिद्धू फिर बदलेंगे पार्टी! पंजाब में चुनाव से पहले कांग्रेस छोड़ थाम सकते हैं इस दल का दामन

वाराणसी हादसे के समय भी कर्नाटक की अधूरी जीत का जश्न जारी रहा
विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी जब कर्नाटक की जीत का जश्न मना रहे थे, उसी दौरान उनके संसदीय क्षेत्र में भीषण हादसा हुआ. लेकिन पीएम ने जश्न जारी रखा और उसी जलसे से ही वाराणसी हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त करने की सतही और हल्के तौर पर रस्म अदायगी भी कर ली. जहां वाराणसी के लोग शोक में डूबे थे, वहीं यहां के सांसद नरेंद्र मोदी दिल्ली में कर्नाटक की अधूरी जीत के नशे में मस्त थे. Also Read - कांग्रेस ने कहा- एक साल में केंद्र ने देश को निराशा और पीड़ा दी, 'बेबस लोग, बेरहम’ सरकार’ का नारा भी दिया

वाराणसी हादसा लापरवाही का दुष्परिणाम
प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री एवं प्रवक्ता अरुण प्रकाश सिंह ने मीडिया से बातचीत में कहा कि, “यह हादसा प्राकृतिक या कोई अनहोनी घटना न होकर पूरी तरह से प्रशासन और निर्माण एजेंसियों की घोर लापरवाही और आम-जन के जान-माल के प्रति उपेक्षा का दुष्परिणाम है, फिर भी हमारे मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री में कोई अपराधबोध या संवेदना नहीं है.” हालांकि उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा वाराणसी हादसे के तुरंत बाद डिप्टी सीएम केशव मौर्य को घटनास्थल के लिए रवाना कर दिया था. हादसे वाले दिन देर रात उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी वाराणसी पहुंच कर घटना स्थल का दौरा किया था और अस्पताल में घायलों से मुलाकात भी की थी.
(इनपुट एजेंसी) Also Read - स्मृति ईरानी ने कहा- कांग्रेस देश की चुनौतियों से फायदा उठाने की कोशिश में है, वो यही कर सकती है