लखनऊ: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने शनिवार को राज्य पुलिस के साथ हुए विवाद के बाद अपने लखनऊ प्रवास की अवधि बढ़ा दी है. प्रियंका गांधी रविवार को उत्तर प्रदेश के रायबरेली स्थित पार्टी नेता सुनील श्रीवास्तव के परिवार वालों से मिलेंगी. ज्ञात हो कि 27 दिसंबर को लंबी बीमारी के बाद सुनील की मृत्यु हो गई थी. वह देर शाम लखनऊ वापस आएंगी, जिसके बाद उनके कार्यक्रम निर्धारित हैं. रायबरेली के लिए रवाना होने से पहले प्रियंका ने पार्टी नेताओं के साथ शनिवार की घटना को लेकर बैठक की और पार्टी की आगे की रणनीति पर चर्चा की.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जितिन प्रसाद, आचार्य प्रमोद कृष्णम और जफर अली नकवी ने लखनऊ में सीएए प्रदर्शन के दौरान 19 दिसंबर को मारे गए मोहम्मद वकील के घर का दौरा किया. वकील की मौत गोली लगने से हुई थी. पार्टी सूत्रों ने कहा कि यह निर्णय लिया गया था कि प्रियंका पुलिस के साथ किसी भी टकराव से बचेंगी और मोहम्मद वकील के घर नहीं जाएंगी. उनकी जगह पार्टी के अन्य नेता को वहां भेजा जाना तय किया गया था.

ज्ञात हो कि राज्य पुलिस ने प्रियंका को सीएए विरोध प्रदर्शन के कारण जेल में बंद सेवानिवृत्त आईपीएस अधिकारी एस. आर. दारापुरी के घर जाने से रोक दिया था. प्रियंका ने आरोप लगाया था कि जब वह दारापुरी के घर जाने की जिद कर रही थीं, तब एक महिला पुलिसकर्मी ने उनकी गर्दन पकड़ ली थी.

हालांकि लखनऊ पुलिस ने इस घटना का खंडन किया और कहा कि महिला सिपाही केवल अपना कर्तव्य निभा रही थी और प्रियंका ने अपने इस कार्यक्रम के बारे में पुलिस को सूचित नहीं किया था. वहीं देर रात प्रियंका ने इंदिरा नगर स्थित दारापुरी के घर जाकर उनके परिवार वालों से मुलाकात की.

(इनपुट आईएएनएस)