farmers protest: केंद्र के नए कृषि कानूनों को लेकर जारी किसानों के आंदोलन के बीच कांग्रेस महासचिव और उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi Vadra) लगातार जनसभाओं से लेकर महापंचायतों में शामिल हो रही हैं. शनिवार को मुजफ्फरनगर पहुंची प्रियंका गांधी ने मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला. प्रियंका ने कहा कि हर नेता को अहसास होना चाहिए की जनता उस पर अहसान कर करती है, मुझे इसका पूरा अहसास है.Also Read - Assembly Election 2022: यूपी में प्रियंका गांधी होंगी कांग्रेस का मुख्यमंत्री चेहरा? जानें क्या मिला जवाब

उन्होंने कहा, “दिल्ली बॉर्डर पर प्रदर्शन करने वाले किसानों का अपमान किया गया. जो किसान अपने बेटों को देश की सुरक्षा के लिए सीमा पर भेजता है उन्हें अपमानित किया गया. उन्हें देशद्रोही कहा गया, उन्हें आतंकी कहा गया. पीएम मोदी जी ने पूरे संसद में किसान आंदोलन का मजाक उड़ाया. किसानों को परजीवी कहा.” Also Read - शादी के कार्ड पर किसान आंदोलन की झलक, दूल्हे ने लिखवाया- जंग अभी जारी है, MSP की बारी है

बता दें कि तीन कृषि कानूनों के विरोध में सियासत को भुनाने में कांग्रेस भी लगी है. यूपी के अलग-अलग शहरों में जाकर किसानों के मुद्दों पर सरकार को घेर रहीं प्रियंका गांधी वाड्रा ने शनिवार को मुजफ्फरनगर के बघरा गांव में किसानों को संबोधित किया. वह तीन नए कृषि कानून के विरोध को भुना कर अपनी सियासी जमीन मजबूत कर ही हैं. इससे पहले प्रियंका गांधी यूपी के सहारनपुर और बिजनौर में हुई किसान महापंचायत में शामिल हो चुकी हैं. Also Read - UP Assembly Election 2022: राहुल-प्रियंका ने जारी किया कांग्रेस का घोषणापत्र, सरकारी नौकरियों की गारंटी, करेंगे बंपर शिक्षक भर्ती, जानिए

कांग्रेस की महासचिव और उत्‍तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी वाद्रा ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की तुलना पुरानी कहानियों के ‘‘अहंकारी राजा’’ से करते हुए शनिवार को कहा कि वह (प्रधानमंत्री) यह समझने में असमर्थ हैं कि देश को सुरक्षित रखने वाले ‘जवान’ भी किसान के बेटे हैं.

कांग्रेस नेता ने यहां एक ‘किसान महापंचायत’ को संबोधित करते हुए डीजल की बढ़ती कीमतों समेत कई मुद्दों को लेकर प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधा. उन्होंने आरोप लगाया कि उन्‍होंने कभी किसानों की बात नहीं सुनी और उनकी राजनीति सिर्फ उनके खरबपति पूंजीपति मित्रों के लिए है.

उन्होंने कहा, ‘पुरानी कहानियों में अहंकारी राजा होते थे, जैसे जैसे उनकी सत्ता बढ़ती जाती थी, वह अपने महल में सिमटते जाते थे. लोग उनके सामने सच्चाई कहने से डरने लगते, उनके सामने गिड़गिड़ाने लगता… ऐसा लगता है कि हमारे प्रधानमंत्री भी एक तरह से उन्ही अहंकारी राजाओं की तरह बन गये है.’’

प्रियंका ने कहा, ‘‘उन्हें यह नहीं समझ नहीं आ रहा है कि जो जवान देश की सीमा को सुरक्षित रखता है वह (भी) किसान का बेटा है.’’ प्रधानमंत्री पर निशाना साधते हुए, प्रियंका ने दावा किया कि नये कृषि कानूनों से सरकारी ‘मंडियों’ और न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) प्रणाली खत्म हो जायेगी.

उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘आपके अधिकार भी समाप्त हो जाएंगे. जिस तरह से उन्होंने पूरे देश को अपने दो-तीन मित्रों को बेच दिया है, उसी तरह से वह आपको (किसानों), आपकी जमीन को अपने खरबपति दोस्‍तों की कमाई का जरिया बनाना चाहते हैं.’ उन्होंने कहा, ‘‘2018 में आपको डीजल 60 रुपये में मिलता था लेकिन आज 80 से 90 रुपये में मिल रहा है, बिजली का बिल बढ़ गया है और गैस सिलेंडर की कीमत बढ़ती जा रही है लेकिन आपको अपने गन्ने का दाम नहीं मिल रहा है, इसकी कीमत वही है.’

उन्‍होंने कहा, ‘‘भाजपा सरकार ने पिछले साल डीजल पर कर लगाकर 3.5 लाख करोड़ रुपये कमाए, मैं पूछना चाहती हूं कि पैसा कहां गया.’’