लखनऊ: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने उन्नाव में जिंदा जलाई गई दुष्कर्म पीड़िता के परिजन से शनिवार को मुलाकात की. उन्होंने कहा कि पीड़िता के परिवार पर पिछले एक साल से जुल्म करने के बावजूद आरोपियों पर कोई कार्रवाई नहीं की गयी. वाड्रा ने उन्नाव जिले में आग के हवाले की गई लड़की की मौत के बाद उसके परिजन से मुलाकात की.

बाद में, उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘आरोपियों ने परिवार को पूरी तरह प्रताड़ित किया. बच्ची को धमकाया गया कि स्कूल से तुम्हारा नाम कटवा देंगे. उसके पिता जी को मारा पीटा गया. जून में उनकी खेती जला दी. उसके बाद यह सब कुछ हुआ है.’ कांग्रेस महासचिव ने पुलिस प्रशासन द्वारा आरोपियों का बचाव किये जाने का आरोप लगाते हुए कहा, ‘मैंने सुना है कि यह भाजपा से जुड़े हुए प्रधान हैं. हो सकता है कि उनका किसी तरह से बचाव किया गया हो. पहले भी हमने देखा है कि बड़े—बड़े आरोपी रहे हैं, जिनकी रक्षा की गयी है.’

उन्होंने कहा, ‘मैं सिर्फ इतना कह सकती हूं कि हर रोज यह मामले हो रहे हैं. इसको राजनीतिक मामला न बनाते हुए प्रशासन को यह ध्यान देना होगा कि ऐसी घटनाएं रोज-रोज क्यों हो रही हैं.’ वाड्रा ने कहा, ‘उत्तर प्रदेश में अपराधी तत्वों के दिल में कोई डर नहीं है. आरोपी लोग पिछले एक साल से पीड़िता के घर में घुसकर को उनके पिता को पीट सकते हैं, बच्चों को धमका सकते हैं और खेती जला सकते हैं. फिर इस तरह से अपराध करते हैं. जाहिर है कि उनके दिल में कोई भय नहीं है.’

उन्होंने कहा, ‘मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कह रहे हैं कि उत्तर प्रदेश में अपराधियों के लिये कोई जगह नहीं है. मुझे तो लगता है कि उन्होंने जो उत्तर प्रदेश बनाया है उसमें महिलाओं के लिये जगह नहीं है.’ गौरतलब है कि उन्नाव जिले के बिहार थाना क्षेत्र के एक गांव की रहने वाली कथित बलात्कार पीड़िता को बृहस्पतिवार की तड़के रेलवे स्टेशन जाते वक्त रास्ते में पांच आरोपियों ने आग के हवाले कर दिया था. आरोपियों में से दो के खिलाफ पीड़िता ने बलात्कार का मुकदमा दर्ज कराया था. करीब 90 फीसदी तक झुलस चुकी युवती को दिल्ली के अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां शुक्रवार देर रात करीब 11:30 बजे उसकी मौत हो गई.

(इनपुट भाषा)