Uttar Pradesh News: फिरोजाबाद की नवनिर्वाचित जिला परिषद ने जिले का नाम बदलकर चंद्रनगर करने का प्रस्ताव पेश किया है. प्रस्ताव का मसौदा तैयार करने वाले सदर प्रखंड प्रमुख लक्ष्मी नारायण यादव ने कहा कि फिरोजाबाद का प्राचीन नाम ‘चंदवार नगर’ था और अकबर ने इसे 15वीं शताब्दी में बदलकर फिरोजाबाद कर दिया था. फिरोजाबाद जिला परिषद अध्यक्ष हर्षिता सिंह ने कहा, “शनिवार को पहली जिला परिषद बोर्ड की बैठक के दौरान फिरोजाबाद का नाम बदलकर चंद्रनगर करने के प्रस्ताव को सर्वसम्मति से मंजूरी दी गई. हम इस संबंध में राज्य सरकार को विस्तृत सिफारिश भेजेंगे. हम जिले के मूल नाम को बहाल करने के लिए राज्य के अधिकारियों के साथ भी मामले को आगे बढ़ाएंगे.” फिरोजाबाद अपने कांच के बने पदार्थ, विशेष रूप से चूड़ियों के लिए प्रसिद्ध है.Also Read - उमा भारती ने कहा- अफसरों की औकात ही क्या, वो हमारी चप्पल उठाते हैं, नेता उनकी...

फिरोजाबाद जिला प्रशासन की आधिकारिक वेबसाइट में उल्लेख है, “इस शहर का प्राचीन नाम चंदवार नगर था. फिरोजाबाद का नाम अकबर के शासनकाल के दौरान मुगल सम्राट के एक सैन्य अधिकारी फिरोज शाह ने 1566 में दिया था. ऐसा कहा जाता है कि राजा टोडरमल गया की तीर्थयात्रा के दौरान इस शहर से गुजर रहा था. उसे लुटेरों ने लूट लिया था. उसके अनुरोध पर, अकबर ने फिरोज शाह को यहां भेजा था. फिरोज शाह की कब्र और कटरा पठानन के खंडहर इस बात के प्रमाण हैं.” Also Read - CM पद की शपथ लेते ही कुर्सी छोड़ने का दबाव, चरणजीत सिंह चन्नी से महिला आयोग ने माँगा इस्तीफा, जानें वजह

समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और कांग्रेस जिलाध्यक्षों ने प्रस्ताव पर कड़ी आपत्ति जताई है. समाजवादी पार्टी के सदस्यों ने कहा कि जब विपक्षी सदस्यों में से कोई भी मौजूद नहीं था तब प्रस्ताव पेश किया गया था. कांग्रेस जिलाध्यक्ष संदीप तिवारी ने कहा, “यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि सत्तारूढ़ भाजपा सदस्यों को जिले में बड़े पैमाने पर जलभराव, गड्ढों वाली सड़कों, अपर्याप्त पानी और बिजली की आपूर्ति की चिंता नहीं है. हालांकि, वे राजनीतिक लाभ के लिए जिले का नाम बदलना चाहते हैं क्योंकि चुनाव नजदीक हैं.” Also Read - Maharashtra News: कांग्रेस ने महाराष्ट्र से राज्यसभा सीट के उपचुनाव में रजनी पाटिल को बनाया उम्मीदवार

प्रसिद्ध इतिहासकार और एएमयू के मानद प्रोफेसर इरफान हबीब ने हालांकि कहा, “इस बात का कोई ऐतिहासिक प्रमाण नहीं है कि फिरोजाबाद को चंदवार नगर के नाम से जाना जाता था. फिरोजाबाद नाम फिरोज शाह तुगलक के कार्यकाल के दौरान अस्तित्व में आया. बिंदु यह है कि अकबर ने तथाकथित फिरोजाबाद का प्राचीन नाम बदल दिया था, यह गलत है.”

योगी आदित्यनाथ सरकार पहले ही इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज, फैजाबाद का नाम अयोध्या और मुगलसराय का नाम दीन दयाल उपाध्याय नगर कर चुकी है.

(इनपुट आईएएनएस)