लखनऊ: ओरछा स्थित रेडियो बुंदेलखंड द्वारा पोषण अभियान के तहत झांसी के नन्दनपुरा इलाके में साफ-सफाई के बारे में बताया. खासकर महिलाओं को परिवार और खुद को कैसे स्वच्छ रख स्वस्थ्य रखें बताया गया. खास बात ये भी रही कि बेटियों की पढ़ाई, स्वास्थ्य और शादी की सही उम्र के बारे में भी बताया गया. पूरे महीने चले पोषण माह के दौरान स्कूलों में बच्चों को जागरूक किया. कार्यक्रमों में चिकित्सकों व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने भी हिस्सा लिया. पोषण माह यूपी सरकार का कार्यक्रम है.

डेवलपमेन्ट अल्टरनेटिव के तहत चलने वाले रेडियो बुंदेलखंड ने झांसी व आसपास के इलाकों, गांवों में महिलाओं से संवाद किया. इस दौरान साफ-सफाई के साथ ही कुपोषण मुक्त भारत माह में गर्भवती महिलाओं को आठ सूत्र बताए. गर्भवती महिलाओं को आठ थीम के तहत बताया कि गर्भवती महिलाएं ऊनी देखभाल कैसे करें. स्तानपात का महत्व, ब्रैस्ट फीडिंग, खून की कमी, बच्चों की देखभाल, बेटियों की पढ़ाई, उनके खानपान और शादी की सही उम्र, बेटियों की स्वास्थ्य और क्या कैसे खाना चाहिए, के बारे में बताया.

रेडियो बुंदेलखंड की आरफा कमाल ने बताया कि इसके साथ ही समुदाय की भी राय लेकर जानने की कोशिश की गई कि आखिर समाज को किन समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है. मनीष समाधिया ने बताया कि इस अभियान के तहत रेडियो बुंदेलखंड ने आंगनबाड़ी केंद्र जाकर उनके सहयोग से जागरूकता रैली निकाल महिलाओं और किशोरियों को ‘कुपोषण मुक्त भारत’ की शपथ भी दिलाई गई. रेडियो बुंदेलखंड के इन प्रोग्राम के अंतर्गत एक्सपर्ट के रूप में चाइल्ड स्पेशलिस्ट लक्ष्मीबाई मेडिकल कॉलेज के बाल रोग के हेड डॉ. ओम शंकर चौरसिया,  डॉ. कीर्ति यादव, और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, एएनम सम्मिलित हुए.