लखनऊ: उत्तर प्रदेश की रायबरेली जिला जेल में कैदियों द्वारा कथित रूप से शराब मंगवाने, जेलर को रिश्वत देने की बात कहने और किसी को धमकी देने का वीडियो वायरल होने के बाद यूपी सरकार ने बड़ी कार्रवाई की है. इस मामले में वरिष्ठ कारागार अधीक्षक समेत छह अधिकारियों को निलम्बित करने के साथ-साथ उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई शुरू कर दी गयी. साथ ही चारों बंदियों को दूसरी जेलों में भेज दिया गया है. Also Read - आम आदमी पार्टी के नेता और सांसद संजय सिंह रविवार को हजरतगंज थाने में होंगे पेश, जानिए क्या है मामला

Also Read - Viral Video में वर्दी के नशे में चूर दिखा यूपी पुलिस का सिपाही, दिव्यांग पर दिखाई हनक, फिर...

  Also Read - लखनऊ विश्वविद्यालय के छात्र नेता की गोली मारकर हत्या, आरोपी गिरफ्तार

प्रमुख सचिव गृह एवं कारागार अरविंद कुमार ने बताया कि रायबरेली जिला जेल के अंदर कैदियों द्वारा किसी को फोन करके शराब मंगवाने, किसी को धमकी देने और जेलर को रिश्वत देने की बात करने का वीडियो वायरल होने के मामले में जिला कारागार के वरिष्ठ अधीक्षक प्रमोद कुमार शुक्ला, जेलर गोविन्द राम वर्मा, डिप्‍टी जेलर रामचन्द्र तिवारी, मुख्य जेल वार्डन लालता प्रसाद उपाध्याय, जेल वार्डन गंगाराम और शिवमंगल सिंह को निलम्बित करते हुए उनके खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी गयी है.

 

चारों अपराधियों को अलग-अलग जेलों में किया शिफ्ट

उन्होंने बताया कि वायरल वीडियो में दिखायी दे रहे चार बंदी अपराधियों में से अंशु दीक्षित को प्रतापगढ़, निखिल सोनकर को सुल्‍तानपुर, अजीत चौबे को बाराबंकी और सिंगार सिंह को फतेहपुर की जेल में भेजा गया है. इसके अलावा इन चारों अपराधियों के खिलाफ सुसंगत धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है. बता दें कि 21 नवम्बर को जेल में ली गयी सघन तलाशी के दौरान चार मोबाइल फोन सेट और एक सिमकार्ड बरामद किये जाने का मामला भी उसी मुकदमे में शामिल कर दिया गया है.

 

डीआईजी जेल ने की जांच

उन्होंने बताया कि शासन के निर्देश पर रविवार को जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक द्वारा एक बार फिर जेल में तलाशी लिये जाने पर सिगरेट, लाइटर, माचिस, मिठाइयां तथा मेवे आदि खाद्य पदार्थ बरामद हुए थे. इस पूरे प्रकरण में लापरवाही बरतने के आरोप में वरिष्ठ जेल अधीक्षक समेत छह अफसरों के खिलाफ कार्रवाई की गयी है. एडीजी जेल चंद्र प्रकाश ने डीआईजी जेल उमेश श्रीवास्‍तव को जांच के लिए रायबरेली भेजा था.

यूपी की जेल: कैदियों ने बैरक को बनाया मयखाना, फोन कर बोले- ‘सुनो बेटा ये रायबरेली जेल है, जल्दी आओ, जेलर को 10 हजार दे देना’