लखनऊ: उत्तर प्रेदश के हाथरस में हुए गैंगरेप मामले के सामने आने के बाद सभी में आक्रोश है. इसी कड़ी में पीड़िता के परिवार को न्याय दिलाने के लिए कल कांग्रेस के पूर्व अध्य़क्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी हाथरस के लिए रवाना हुए. हालांकि उन्हें हाथरस जाने से पहले ही डीएनडी पर रोक लिया गया. इसके बाद पुलिसकर्मियों और राहुल गांधी के बीच धक्का-मुक्की हुई और पुलिस ने राहुल गांधी को गिरफ्तार कर लिया. पीड़िता के परिवार से मिलने जाने के घटनाक्रम में पुलिस के साथ हुई धक्का मुक्की पर राहुल गांधी ने प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने 2 अक्टूबर यानी महात्मा गांधी को याद करते हुए सरकार को आड़े हाथों लिया और सरकार को अप्रत्यक्ष रुप से बताया है कि वे किसी से डरने वाले नहीं हैं. Also Read - मध्यप्रदेश की मंत्री को कहा ‘आइटम’, राहुल गांधी बोले- मैं कमलनाथ जी की भाषा का समर्थन नहीं करता

राहुल गांधी ने अपने अधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट करते हुए लिखा- ‘मैं दुनिया में किसी से नहीं डरूंगा… मैं किसी के अन्याय के समक्ष झुकूं नहीं, मैं असत्य को सत्य से जीतूं और असत्य का विरोध करते हुए मैं सभी कष्टों को सह सकूं।’ गांधी जयंती की शुभकामनाएं। बता दें कि यह कथन महात्मा गांधी का है. ऐसे में राहुल गांधी ने 2 अक्टूबर के खास अवसर पर इस ट्वीट को शेयर करके लोगों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया है. Also Read - राहुल गांधी की नाराजगी को भी कमलनाथ ने नहीं दी 'तवज्जो', 'आइटम' वाले बयान पर माफी मांगने से इनकार

बता दें कि गुरुवार के दिन राहुल गांधी और प्रियंका गांधी हाथरस के लिए रवाना हुए थे. इस दौरान उन्हें ग्रेटर नोएडा में रोक लिया गया. इसके बाद राहुल गांधी और उनके सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने पैदल हाथरस जाने और पीड़िता के परिवार से मिलने का फैसला किया. इसपर किसी भी तरह की अनहोनी न हो इस कारण भारी मात्रा मे पुलिसबल की तैनाती की गई. हालांकि राहुल गांधी जब पैदल हाथरस जाने लगे तो उन्हें बाद में पुलिस द्वारा हिरासत में ले लिया गया. इस दौरान प्रियंका गांधी को भी पुलिस ने हिरासत में ले लिया था. इसके बाद ही पुलिसकर्मियों से कांग्रेस नेताओं की धक्का-मुक्की शुरू हुई. हालांकि राहुल गांधी, प्रियंका गांधी समेत 150 कांग्रेसी नेताओं को निजी मुचलके पर रिहा कर दिया गया.