नई दिल्ली. अगर आप गर्मी की छुट्टियों में मुंबई से उत्तर प्रदेश के विभिन्न शहरों की यात्रा करने वाले हैं, तो यह खबर आपके लिए है. मध्य रेलवे आने वाली गर्मी छुट्टियों में मुंबई से वाराणसी के बीच 10 विशेष ट्रेनें चलाने जा रही है. दरअसल, रेलवे इस रूट पर दो ट्रेनें चलाएगी. दोनों स्पेशल ट्रेनें एक महीने के दौरान पांच-पांच दिन यानी कुल 10 दिन विशेष ट्रेन बनकर इन दोनों गंतव्य स्थानों के बीच चलेंगी. यानी अगर आप रिजर्वेशन की आपाधापी में छुट्टियों के लिए ट्रेन में सीट बुक नहीं करा पाए हैं, तो घबराने की जरूरत नहीं. ये स्पेशल ट्रेनें आपको छुट्टियों में घर तक पहुंचाएगी. मध्य रेलवे ने छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस (सीएसएमटी) से वाराणसी के बीच गर्मी के दौरान भीड़ नियंत्रण के लिए इन ट्रेनों को चलाने की योजना बनाई है. ये ट्रेनें 24 अप्रैल से लेकर 23 मई 2018 तक चलेंगी.

मंगलवार और बुधवार को चलेंगी ट्रेनें
मध्य रेलवे के प्रवक्ता ने बताया कि ट्रेन नंबर 01027, 24 अप्रैल से लेकर 22 मई के बीच हर मंगलवार को सीएसएमटी से वाराणसी की दूरी लगभग 30 घंटों में पूरी करेगी. यह ट्रेन सुबह 6 बजकर 45 मिनट पर सीएसएमटी से चलेगी और दूसर दिन दोपहर 12 बजे वाराणसी पहुंचेगी. एक महीने की अवधि के दौरान यह ट्रेन कुल 5 फेरे लगाएगी. इसी तरह ट्रेन नंबर 01028, 25 अप्रैल से लेकर 23 मई तक हर बुधवार को वाराणसी से चलकर सीएसएमटी की दूरी लगभग 26 घंटों में तय करेगी. यह ट्रेन वाराणसी से दोपहर 13.55 यानी 1 बजकर 55 मिनट पर रवाना होगी और दूसरे दिन शाम 16.15 यानी 4 बजकर 15 मिनट पर सीएसएमटी पहुंचेगी. ट्रेन नंबर 01028 भी एक महीने की अवधि में कुल 5 फेरे लगाएगी.

सीएसएमटी-वाराणसी के बीच 11 स्टॉपेज
मध्य रेलवे के प्रवक्ता ने मीडिया को दी गई जानकारी में बताया कि दोनों स्पेशल ट्रेनें सीएसएमटी से वाराणसी के बीच कुल 11 स्थानों पर रुकेगी. इन ट्रेनों का स्टॉपेज- कल्याण, नासिक रोड, भुसावल, खंडवा, इटारसी, जबलपुर, कटनी, सतना, माणिकपुर और छिवकी होगा. प्रवक्ता ने बताया कि समर स्पेशल ट्रेनों के लिए 21 अप्रैल से रिजर्वेशन की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी. दोनों ट्रेनों में 1 एसी थ्री-टायर, 10 स्लीपर कोच, 5 जनरल बोगी और दो लगेज-कम-सेकेंड क्लास कोच होंगे. मध्य रेलवे के प्रवक्ता का कहना था कि गर्मी की छुट्टियों के दौरान होने वाली अतिरिक्त भीड़ को देखते हुए रेलवे ने यह व्यवस्था की है. दोनों ट्रेनों के संचालन से छुट्टियों के दौरान होने वाली भीड़ को काफी हद तक नियंत्रित किया जा सकेगा.