जौनपुर : अब रेलवे मानवरहित और फाटक रहित रेलवे क्रासिंग पर घटने वाली दुर्घटनाओं पर अंकुश लगाने के क्रम में फौज से रिटायर्ड जवानो की मदद लेने जा रहा है. एक निजी कार्यक्रम में जौनपुर आए रेल मंत्री मनोज सिन्हा ने इस बाबत संवाददाताओं को जानकारी दी. गौरतलब है कि अभी कुछ दिनों पूर्व ही कुशीनगर जिले में फाटक रहित रेलवे क्रासिंग पर स्कूल वैन के ट्रेन की चपेट में आने से बच्चों की दर्दनाक मौत के बाद ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति रोकने के लिए रेलवे अब ऐसी क्रासिंग पर सेवानिवृत्त जवानों और होमगार्ड जवानों को लगाने की तैयारी कर रहा है. Also Read - भारतीय सेना को मिला अपना मोबाइल मैसेजिंग ऐप, बातचीत के लिए विशेष रूप से किया गया है विकसित

दुर्घटनाओं की रोक-थाम के लिए स्थानीय लोगों की भी ली जाएगी मदद
एक निजी कार्यक्रम में शामिल होने आए रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि अव्वल तो फाटक रहित क्रासिंगों को बंद करने या उन पर फाटक लगाने के लिए रेलवे गंभीरता से विचार कर रहा है. लेकिन फौरी तौर पर दुर्घटनाओं को रोकने के लिए गेट मित्र लगाने का फैसला किया गया है. अक्तूबर के अंत तक जो फाटक रहित क्रासिंग बच जाएंगी  वहां रेलवे सेवानिवृत्त जवानों और होमगार्ड की तैनाती पर विचार कर रहा है.उन्होंने कहा कि जवानों की अनुपब्धता की स्थिति में स्थानीय लोगों को ऐसी क्रासिंग पर तैनात करने का भी विचार किया जा रहा है. Also Read - पाकिस्तान में मचा सियासी घमासान- आमने सामने आई सेना और पुलिस, छुट्टी पर चले गए अधिकारी

पीएम मोदी की तारीफ़ करने से भी नहीं चूके सिन्हा
मीडिया से बातचीत के दौरान रेल मंत्री मनोज सिन्हा ने पीएम मोदी की तारीफ करते हुए कहा कि जौनपुर और पूरे उत्तर प्रदेश में 1947 से 2014 तक रेलवे की विभिन्न परियोजनाओं पर जितना व्यय हुआ  उससे कहीं ज्यादा कार्य 2014  से 2018 के बीच प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के निर्देश पर किया गया है. ( इनपुट एजेंसी ) Also Read - Hyderabad Rain Updates: हैदराबाद में बारिश से हालात खराब, स्टैंडबाय पर रखी गईं सेना की राहत टीमें