भारतीय किसान यूनियन (अराजनैतिक) के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश सिंह टिकैत ने कहा है कि कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों से सरकार बातचीत करें तथा विवादित कानून को वापस ले. Also Read - किसान आंदोलन में दंगे का प्रयास? पुलिस ने आरोपी के साथी को भी गिफ्तार किया

उन्होंने कहा कि सरकार न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को कानूनी मान्यता दे तथा यह सुनिश्चित करे कि जिस फसल की जो न्यूनतम दर सरकार ने तय की है, उससे कम रेट पर कोई भी व्यापारी या मिल मालिक अनाज नहीं खरीदेगा. अगर उससे कम रेट पर किसानों से खरीदारी की जाती है तो क्रेता के खिलाफ मामला दर्ज कर कानूनी कार्रवाई की जाएगी. Also Read - Tractor Parade 26 January: 'ट्रैक्टर परेड' के लिए किसानों की तैयारी पूरी, पंजाब, हरियाणा से ट्रैक्टरों के जत्थे दिल्ली रवाना हुए

टिकैत ने शुक्रवार को फोन पर यह बताया. Also Read - Kisan Gantantra Parade: किसानों का दावा, 26 जनवरी को दिल्ली में ट्रैक्टर रैली की अनुमति मिली; पुलिस ने कहा, अभी जारी है बातचीत

उन्होंने कहा कि दिल्ली में प्रदर्शन करने जा रहे हैं हरियाणा, पंजाब के किसानों का भारतीय किसान यूनियन पूरी तरह से समर्थन कर रहा है तथा भाकियू आज उत्तर प्रदेश में विभिन्न स्थानों पर सड़क जाम कर प्रदर्शनरत किसानों का समर्थन करेगी.

उन्होंने किसानों पर लाठीचार्ज व जाड़े के मौसम में पानी की बौछार करने की भी कड़े शब्दों में निंदा की.

(इनपुट भाषा)