अयोध्या: अयोध्या में राममंदिर का निर्माण के लिए भूमि पूजन 5 अगस्त को प्रस्तावित है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की मौजूदगी में यह कार्यक्रम आयोजित किया जाना है. इसके लिए तैयारियां शुरू हो गयी हैं. ट्रस्ट के अध्यक्ष प्रधानमंत्री के आगमन को लेकर उत्साहित है. उन्होंने बताया कि 40 किलो की चांदी की ईंट रखकर प्रधानमंत्री इसका शुभारंभ करेंगे. जमीन से साढ़े तीन फिट अंदर रखी जाने वाली ईंट में नक्षत्रों का प्रतीक होगा. Also Read - 'पीएम मोदी कृषि बिल को ऐतिहासिक बता रहे हैं, वाकई ये है तो किसान ख़ुश क्यों नहीं'

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष नृत्यगोपाल दास के उत्तराधिकारी महंत कमल नयन दास ने कहा कि भूमि पूजन के अनुष्ठान 3 अगस्त से ही शुरू हो जाएंगे. इसके लिए काशी के विद्वान पंडितों को बुलाया जाएगा. कोरोना महामारी को देखते हुए इसमें सीमित संख्या में लोग मौजूद रहेंगे. Also Read - Bhiwandi Building Collapses: राष्ट्रपति कोविंद और PM मोदी ने भिवंडी में इमारत गिरने से हुई 10 लोगों की मौत पर दुख जताया

सूत्रों के अनुसार इस दौरान अयोध्या को भव्य तरीके सजाया जाएगा. इस दौरान रामजन्मभूमि आंदोलन से जुड़े तमाम लोगों को बुलाए जाने की चर्चा हो रही है. बताया जा रहा है कार्यक्रम में लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशाी के अलावा ऐसे नेताओं को भी बुलाया जा सकता है, जो कभी राममंदिर के पक्ष में दबे स्वर में ही बोलते रहे हो. Also Read - Ayodhya Masjid: मक्का के काबा शरीफ की तरह होगी अयोध्या की मस्जिद, जानें कैसी दिखेगी...

ट्रस्ट के सदस्य अनिल मिश्रा ने कहा कि प्रधानमंत्री कार्यालय को एक औपचारिक निमंत्रण भेजा गया है, लेकिन अभी तक उनके कार्यक्रम की कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है, हालांकि एक अस्थायी कार्यक्रम तय किया है. मिश्रा ने यह भी कहा कि प्रस्तावित मंदिर में एक विश्व स्तरीय संग्रहालय भी होगा जहां लोग राम जन्मभूमि स्थल से खुदाई में निकली पुरातात्विक कलाकृतियों को देख सकेंगे.