लखनऊ: 5 अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की तारीख तय ककर दी गई है. लेकिन अब मंदिर निर्माण के शुभ समय को लेकर शंकराचार्य और स्वरूपानंद सरस्वती ने सवाल खड़े कर दिए है. इन्होंने राम मंदिर के भूमि पूजन के समय को अशुभ बताया है. बता दें कि 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी अयोध्या पहुंचेंगे और भूमि पूजन करेंगे. इसी बीच दोनों संतों द्वारा मदिर के मुहूर्त को लेकर सवाल खड़ा कर दिया गया है.Also Read - हिंदुओं को लगा कि कानूनी प्रक्रिया के जरिए उन्हें धोखा दिया जा रहा है, जिसके कारण बाबरी मस्जिद गिराई गई : RSS नेता

शंकराचार्य और स्वरूपानंद सरस्वती महाराज ने 5 अगस्त की भूमि पूजन के समय को अशुभ घड़ी करार दिया है. उन्होंने कहा कि हम राम भक्त है. मंदिर कोई भी बनाए हमें खुशी होगी लेकिन मंदिर निर्माण के लिए शुभ तिथि और शुभ मुहूर्त होना चाहिए. स्वरूपानद ने कहा कि अगर मंदिर जनता के पैसे से बनना है तो जनता से राय लेना चाहिए. Also Read - VHP प्रमुख ने कहा- राम जन्मभूमि को वेटिकन सिटी और मक्का की तरह विकसित किया जाएगा

बता दें कि इसी के बाद से दोनों पक्षों के संतों के बीच छोटी-मोटी तीखी प्रक्रिया देखने को मिली है. अयोध्या के संत समाज के लोगों नें स्वरूपानंदर को चुनौती तक डे डाली, ये तक कह डाला कि शास्त्रार्थ ज्ञान 5 अगस्त को आकर सिद्ध करें. बता दें कि राम मंदिर के नए मॉडल का डिजाइन भी सामने आ चुका है. इससे पहले वाले डिजाइन में कुछ बदलाव किए गए थे. Also Read - Ayodhya: जानिए कब कर पाएंगे गर्भगृह में भगवान राम के दर्शन? अब तक कितना हुआ मंदिर निर्माण?