लखनऊ: उत्तर प्रदेश के रामपुर में शनिवार को यहां एक शख्स को उच्च सुरक्षा वाले केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) शिविर में घुसने की कोशिश के दौरान गिरफ्तार कर लिया गया. यह शख्स अधिकारी की तरह वेषभूषा धारण किए हुए था. जानकारी के मुताबिक, आरोपी अपने को सीआरपीएफ का एसआई बताकर अपने माता-पिता को सेंटर में लाया था. जहां से पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया.

 

रामपुर सिविल लाइंस के स्टेशन हाउस ऑफिसर (एसएचओ) सुधीर कुमार ने कहा कि सुरक्षाबलों ने इटावा के जेहानी गांव के रहने वाले नरेश तिवारी को गिरफ्तार किया. सीआरपीएफ की वर्दी पहने तिवारी किसी भी तरह के पहचान पत्र को दिखाने में विफल रहा, हालांकि उसने अर्धसैनिक बल के सब-इंस्पेक्टर होने का दावा किया. तिवारी ने पूछताछ के दौरान स्वीकार किया कि उसने अपने माता-पिता से सीआरपीएफ अधिकारी होने के बारे में झूठ बोला था. इसलिए जब उन्होंने उसे शिविर घूमाने के बारे में कहा, तो वह घबरा गया और चोरी-छिपे शिविर में प्रवेश करने की कोशिश की. अधिकारियों ने जब उससे बात की तो उन्हें शक हो गया. सख्ती से पूछताछ करने पर युवक की पोल खुल गई.

सिपाही भर्ती परीक्षा: प्रश्न पत्र हल करने वाले गिरोह के छह लोग आगरा से गिरफ्तार

संवदेनशील क्षेत्र में घुसने पर सीआरपीएफ प्रशासन में हड़कंप
इस तरह वर्दी में अनजान युवक के संवदेनशील क्षेत्र में घुसने पर सीआरपीएफ प्रशासन में हड़कंप मचा. पुलिस को आरोपी के पास से वर्दी, बैच, नेमप्लेट, मिला है. सिविल लाइंस के स्टेशन हाउस ऑफिसर (एसएचओ) सुधीर कुमार ने कहा कि उसके खिलाफ धोखाधड़ी और अन्य धाराओं में मामला दर्ज किया गया है. यहां 31 दिसंबर 2007 को हुए आतंकवादी हमले में कई जवान शहीद हुए थे.