झांसी: उत्तर प्रदेश के झांसी में एक पॉलिटेक्निक कॉलेज कैम्पस में एक 17 वर्षीय लड़की के साथ रविवार को हुए दुष्कर्म का वाकया सामने आया था. इस मामले के 8 आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार करके जेल भेज दिया. Also Read - सात महीने बाद सिर्फ एक दिन के लिए खुला 'बांके बिहारी मंदिर', फिर से बंद किए गए कपाट, ये है बड़ी वजह

बता दें कि बीते 11 अक्टूबर को पीड़िता कॉलेज में अपने दोस्त से मिलने गई थी. उसे और उसके दोस्त को आरोपियों ने हॉस्टल परिसर के अंदर खींच लिया. उनमें से एक आरोपी ने लड़की के साथ दुष्कर्म किया था, जबकि उसके दोस्त की पिटाई की गई थी. आरोपियों ने दोनों का आपत्तिजनक वीडियो बनाया और पीड़िता के 2,000 रुपए भी लूट लिए. यह सब तब हुआ जब कैंपस में प्रांतीय सिविल सेवा परीक्षा चल रही थी और वहां पुलिस भी मौजूद थी. Also Read - UP: पुलिस का खुलासा, गोंडा का पुजारी खुद पर हमले की साजिश में सरपंच और महंत के साथ शामिल था

दरअसल, लड़की की चीख पुकार सुनकर पुलिस टीम की गश्ती इकाई उसे बचाने के लिए आई थी. उसे तुरंत अस्पताल ले जाया गया और मामला दर्ज किया गया. हालांकि, यह अभी तक स्पष्ट नहीं है कि छात्रों को हॉस्टल में कैसे प्रवेश मिला, जो कोरोना महामारी के कारण बंद है. Also Read - 'मिशन शक्ति' शुरू, CM योगी बोले- बेटियों पर बुरी नजर डालने वालों के लिए UP में कोई जगह नहीं

पुलिस ने बताया कि मुख्य आरोपी की पहचान महोबा निवासी 22 वर्षीय रोहित कुमार सैनी के रूप में हुई है. अन्य अभियुक्तों में महोबा का रहने वाला भारत कुशवाहा, गोंडा का शैलेंद्र पाठक, तहरोली, झांसी का मयंक शिवहरे, प्रयागराज का बिपिन तिवारी, मौरानीपुर का मोनू पर्या, मौरानीपुर का धर्मेद्र सेन और महोबा का संजय कुशवाहा शामिल है.

सभी आरोपी गवर्नमेंट पॉलिटेक्निक कॉलेज के दूसरे वर्ष के छात्र हैं. इनके खिलाफ धारा 120 बी, 376 डी, 395, 386, 323 आईपीसी, आईटी एक्ट की धारा 66 डी और पोक्सो एक्ट की धारा 3/4 के तहत मामला दर्ज किया गया है.

झांसी के एसएसपी ने कहा, “हमने रविवार को एक नामजद और 10-15 अज्ञात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी. जांच के दौरान, आठ लोगों की पहचान की गई और 12 घंटे के भीतर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया. हमने सभी आरोपियों से पूछताछ की है और पीड़िता ने आठ की पहचान की है.” उन्होंने कहा कि सभी आरोपियों को पुलिस ने मंगलवार को गिरफ्तार किया था.