Ration Card: उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार अब अपात्र लोगों का राशन कार्ड रद करने की तैयारी कर रही है जिससे पात्र लोगों तक राशन कार्ड की योजना का सही लाभ पहुंच सके. इसकी वजह ये है कि यूपी में सही पात्रो को खाद्यान्न योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है, जिसके कारण आपात्र राशन कार्ड धारकों की शासन स्तर से ही मॉनिटरिंग की जा रही है और सरकार की ओर से लखपति किसानो की जिला स्तर पर सूची भेजी गई है.Also Read - CM Yogi Adityanath का बड़ा फैसला, यूपी में डॉक्टरों की रिटायरमेंट की उम्र बढ़ेगी, जानिए कब होंगे रिटायर

जानकारी के मुताबिक भेजी गई इस सूची में स्पलाई विभाग दो लाख से अधिक आय वाले किसानों को चिन्हित करेगी और इनमें 1739 किसानों का वेरीफिकेशन किया जायेगा. वेरिफिकेशन के बाद उनके राशन कार्ड को निरस्त कर दिया जाएगा और उसकी जगह पर नया राशन कार्ड बनवाया जाएगा. Also Read - UP Election 2022: यूपी सरकार की साढ़े चार साल की उपलब्धि बताएंगे सीएम योगी, जिले में जुटेंगे मंत्री व सांसद

सप्लाई विभाग के मुताबिक, जिलों में लगभग 4000 नए राशन कार्ड के आवेदन पेंडिंग पड़े हुए हैं, जो पुराने कार्ड निरस्त होने के बाद ही बन सकेंगे. बता दें कि हाल में ही शासन ने 1739 ऐसे किसानों की सूची भेजी है और उन्होंने दो लाख रुपये से अधिक का धान सरकारी केन्द्रों पर बेचा था, जबकि राशन कार्ड में एक लाख से ऊपरी आय वाले शामिल नहीं होनी चाहिये. Also Read - अगर BJP हमारे साथ चुनाव लड़े तो BSP के लिए बड़ा झटका हो सकता है: RPI नेता रामदास अठावले

राज्य सरकार का मानना है कि जो किसान लखपति हैं और उनके पास राशन कार्ड है तो उस राशन कार्ड का सत्यापन कर निरस्त करने की कार्रवाई की जाये  और उसकी जगह नये राशन कार्ड बनाये जाएं. वहीं सप्लाई विभाग के अधिकारियों का कहना है कि कई सालों से कार्डो का सत्यापन नहीं हुआ है. सत्यापन होने के बाद कई कार्डधारक आपात्र घोषित हो सकते है. अधिकारियों के मुताबिक सत्यापन में ऐसे लोगों को चिन्हित किया जायेगा, जिनकी आय दो लाख रुपये से अधिक है.

डीएसओ नीरज सिंह ने बताया, शासन ने दो लाख से अधिक के धान बेचने वाले किसानों की सूची भेजी है, जिनके कार्ड का सत्यापन होना है. उन किसानों का सत्यापन राशन कार्ड से किया जाएगा. सत्यापन में किसान संपन्न पाये जाने पर कार्ड निरस्त कर लंबित आवेदनों को स्वीकृति दी जायेगी.