लखनऊ: मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ के जीवन पर लिखी गई पुस्‍तक ‘कर्मयोगी’ का लखनऊ में लोकार्पण किया गया. इस दौरान केंद्रीय मंत्री शिव प्रताप शुक्ला, प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा, भाजपा प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन सहित कई लोग मौजूद रहे. पत्रकार और लेखक रामेन्द्र सिन्हा की पुस्तक में योगी आदित्य नाथ के जीवन के कई पहलुओं को समेटने की कोशिश की गई है. साथ ही योगी आदित्‍यनाथ के बाल्‍यकाल से लेकर मौजूदा राजनीतिक स्थिति को भी बताया गया है.

राजधानी लखनऊ के पर्यटन भवन में हुए लोकार्पण समारोह के दौरान वक्ताओं ने योगी से जुड़े अपने जीवन के अनुभवों को साझा किया. इस अवसर पर ‘सामाजिक समरसता में राजनीति, धर्म, मीडिया और युवाओं की भूमिका’ विषय पर सेमिनार भी हुआ. कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री शिव प्रताप शुक्ला ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से जुड़े कई संस्मरण सामने रखे. उन्होंने कहा कि योगी आदित्यनाथ और सामाजिक समरसता एक दूसरे के पूरक माने जा सकते हैं. उनके प्रयासों और प्रदेश के लिए किए जा रहे कार्यों पर प्रकाश डाला. कहा- पीएम मोदी ने सोच कर योगी आदित्‍यनाथ को मुख्यमंत्री बनाया. सामाजिक समरसता के ताने-बाने को तोड़ने का काम लोग इसलिए करते हैं, क्योंकि उनको विधायक और सांसद बनना है. उन्होंने कहा कि समरसता को लेकर हम चलेंगे तो देश विश्व गुरु बनेगा. कार्यक्रम के अंत में पुस्तक के लेखक रामेन्द्र सिन्हा ने पुस्तक की भूमिका के बारे में अपनी बात रखी. इस दौरान ओलंपिक संघ के अध्यक्ष आनन्देश्वर पाण्डेय, वरिष्‍ठ पत्रकार के विक्रम राव, साहित्यकार डॉ. जयनाथ मणि त्रिपाठी, सूर्य नारायण पाण्डेय, स्‍वामी मार्तण्‍डपुरी, अरविंद वाजपेयी निदेशक अमन प्रकाश के निदेशक समेत कई अन्य साहित्यकार, लेखक व प्रशासनिक अधिकारी मौजूद रहे.

काम के प्रति समर्पित रहते हैं सीएम योगी
कार्यक्रम में सूबे के उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा कि किसी संत का नौकरशाही तंत्र में ढलना एक बड़ी चुनौती होती है, लेकिन सीएम योगी ने अपने संस्कारों में कोई परिवर्तन नहीं किया है. उन्होंने सीएम योगी से गोरखपुर में हुई अपनी पहली मुलाकात का भी जिक्र किया और लेखक को उनके बारे में लिखी गई इस पुस्तक के लिए बधाई भी दी. कार्यक्रम में मौजूद महामंडलेश्वर स्वामी मार्तण्डपुरी ने कहा कि हमारे चारों ओर मौजूद सभी माध्यम हमें रोबोट बनाने में जुटे हैं. इन सबके बीच हमारा प्रयास है कि मनुष्य कैसे बनें. सीएम योगी आज भी बिना एसी-पंखे के तख्‍त पर ही सोते हैं, क्‍योंकि संत कभी अपने संस्‍कारों से समझौता नहीं करता है.

यूपी की तकदीर बदलने आए हैं सीएम योगी
लोकार्पण समारोह में पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा के प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने कहा कि देश को मौजूदा समय योगियों की जरूरत है, ढोंगियों की नहीं. कहा कि सीएम योगी ऐसे संत हैं जो उत्तर प्रदेश की तकदीर और तस्वीर बदल कर दिखाएंगे. इस दौरान उन्होंने सीएम योगी से लोकसभा के अंदर हुई मुलाकात का जिक्र भी किया. उन्होंने कहा कि सीएम योगी से जो एक बार मिलेगा उसकी धारणा ही बदल जाएगी. उन्‍होंने पीएम मोदी के गुजरात में हुए कार्यक्रम का जिक्र किया जिसमें मुस्लिम टोपी नहीं पहनने पर पीएम मोदी जो कि उस समय गुजरात के मुख्‍यमंत्री थे, की काफी आलोचना हुई थी. इसको लेकर शाहनवाज हुसैन ने कहा कि उस कार्यक्रम में वे स्‍वयं उपस्थित थे, देर शाम टीवी चैनलों पर टोपी को लेकर बहस छिड़ती देख वे अचरज में पड़ गए. उन्‍होंने कहा कि उस कार्यक्रम में पीएम मोदी ने मुस्लिम समाज के लोगों की ओर से भेंट की गई दुशाला को ओढ़ गले में डाल दिया था, जबकि टोपी हाथ में ले ली थी, क्‍योंकि टोपी सिर्फ इबादत के लिए होती है, सियासत के लिए नहीं. इसके बावजूद कुछ लोग आज भी इसको लेकर सियासत करते हैं. उन्‍होंने ऐेसे लोगों पर वार करते हुए कहा कि जो अपने धर्म का नहीं, वह किसी और का भी नहीं हो सकता.