सहारनपुर: 21 नवंबर यानी बुधवार को भतीजी की शादी में आने का वादा किया था. भतीजी की शादी में शामिल होना था. उनकी छुट्टी भी मंजूर हो गई थी, लेकिन इससे पहले ही सहारनपुर के बीएसएफ में कमांडेंट जबर सिंह जम्मू-कश्मीर में शहीद हो गए. आज उनकी बजाय उनका पार्थिव शरीर गांव पहुंचा तो हड़कंप मच गया. शादी की खुशियां काफूर हो गईं.

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर के थाना नकुड के गांव भैरमऊ के रहने वाले जबर सिंह सेना में थे. वह काफी समय से जम्मू-कश्मीर में तैनात थे. उन्हें अपनी भतीजी की शादी में शामिल होने के लिए 21 नवंबर को घर आना था. उनकी छुट्टी भी मंजूर हो गई थी, लेकिन आज इससे पहले ही उनके शहीद होने की खबर आ गई. बताया जा रहा है कि वह ड्यूटी पर जीप से गश्त पर थे, इसी दौरान पाकिस्तान द्वारा सीज फायर का उलंघन कर ग्रेनेड फेंक दिया गया, इससे वह गंभीर रूप से घायल होकर वीर गति को प्राप्त हो गए.

गांव पहुंचे शहीद के शव को लोगों का सैल्यूट, पार्थिव शरीर देख बेसुध हुई पत्नी

परिजन उनके आने का इंतज़ार कर रहे थे. घर में भतीजी की शादी की तैयारियां चल रही थीं, इसी दौरान उनकी शहीद होने की खबर आ गई. घटना से परिवार में हड़कंप मच गया. खबर मिलते ही पूरे इलाके में शोक की लहर दौड़ गई. उनका पार्थिव शरीर आज शाम तक उनके पैतृक गांव भैरमउ लाया जा सकता है. परिजनों का करुण क्रंदन देख हर आंख नम हो गई. पूरे राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया.