सहारनपुर: सहारनपुर में थाना जनकपुरी क्षेत्र में चल रहे सहारनपुर महोत्सव और शिल्प मेले में सोमवार रात रात एक झूला टूटने से एक बच्ची समेत दस लोग घायल हो गये. हादसे के बाद झूले का संचालक वहां से फरार हो गया. मौके पर मौजूद कुछ लोगों और पुलिस ने चलते हुए झूले को किसी तरह रोका अन्यथा बड़ा हादसा हो सकता था. सूचना मिलते ही प्रशासनिक अधिकारी रात में ही मौके पर पहुंचे ओर तमाम झूलों को बंद कराते हुए घायलों को उपचार के लिए जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया. उधर, प्रशासन ने झूले में हुई खराबी की जांच के आदेश दे दिये हैं.

लखनऊ के दो होटल में लगी भीषण आग, पांच लोगों की मौत, कई झुलसे

सहारनपुर के एसपी देहात विद्या सागर मिश्रा ने बताया कि मेले में सोमवार रात 11 बजे अफरा-तफरी का माहौल बन गया, जब जिगजैग झूले का टायर अचानक फट गया और यह झूला अनियन्त्रित हो गया. उस समय इस झूले में अनेक महिलाएं और बच्चे सवार थे. मिश्रा ने बताया कि आनन-फानन में मौके पर मौजूद पुलिस और स्थानीय लोगों ने किसी तरह झूले को रोकने में सफलता प्राप्त की. झूले में बैठी 20 वर्षीया शाहिदा, 26 वर्षीया अफसाना और एक बच्ची सहित लगभग दस महिलाएं चोटिल हो गईं. सूचना मिलते ही एसपी सिटी प्रबल प्रताप सिंह और अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे ओर घायलों का हालचाल जाना.

प्रशासन ने दिए जांच के आदेश
मेले के दौरान झूला टूटने से बड़ा हादसा टल गया, अन्‍यथा झूले में सवार कई महिलाएं और बच्‍चे असमय मौत के मुंह में चले जाते. झूला संचालक की लापरवाही को लेकर स्‍थानीय प्रशासन ने मामले की जांच के आदेश दिए हैं. प्रशासन का कहना है कि मेले जैसे आयोजनों में झूलों आदि की सुरक्षा व्‍यवस्‍था को बखूबी जांच-परखकर उसकी मंजूरी दी जानी चाहिए. झूला टूटने से घायल हुए बच्‍चों को अस्‍पताल ले जाया गया है.  (इनपुुट एजेंसी)