लखनऊ: कांग्रेस के नक्शेकदम पर चलते हुए समाजवादी पार्टी (सपा) भी सोमवार 10 सितम्बर को पेट्रोलियम पदार्थों के बढ़ते दामों एवं मंहगाई समेत विभिन्न मुद्दों को लेकर पूरे उत्तर प्रदेश धरना-प्रदर्शन करेगी. सपा के राष्ट्रीय सचिव राजेन्द्र चौधरी ने आज यहां बताया कि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के निर्देश पर सपा प्रदेश में किसानों की परेशानियों, पेट्रोलियम पदार्थों के बढ़ते दाम एवं मंहगाई, कानून व्यवस्था की बदहाली, बढ़ते भ्रष्टाचार और छात्रों-नौजवानों के दमन के खिलाफ कल सोमवार को हर जिला तथा तहसील मुख्यालय पर धरना-प्रदर्शन करेगी. उन्होंने बताया कि इस कार्यक्रम के कारण कल लखनऊ में होने वाली सपा जिला एवं महानगर अध्यक्षों तथा महासचिवों की बैठक निरस्त कर दी गई है.

देश में महंगा है, इसलिए नेपाल से वाहनों में पेट्रोल-डीजल भरवाकर लौट रहे लोग, ऐसा है बॉर्डर के पंपों का नजारा

मालूम हो कि कल ही कांग्रेस ने भी पेट्रोलियम पदार्थों के चढ़ते दामों के खिलाफ ‘भारत बंद’ का आह्वान किया है. चौधरी ने कहा कि भाजपा की केन्द्र और राज्य सरकारों ने जनहित में एक भी योजना लागू नहीं की है. उनके निर्णयों से जनता की परेशानियां बढ़ी है. नोटबंदी और जीएसटी ने अर्थव्यवस्था को चैपट कर दिया है. मंहगाई से जनता त्राहि-त्राहि कर रही है. डीजल, पेट्रोल और घरेलू गैस के दाम आसमान छू रहे हैं. नौजवान निराश हैं और बेकारी से उनका भविष्य अंधेरे में है. कानून-व्यवस्था ध्वस्त है. महिलाओं और बच्चियों के साथ बलात्कार की घटनाएं थम नहीं रही है.

उन्होंने आरोप लगाया कि हालात ऐसे हैं कि दुनिया भर में भारत की बदनामी हो रही है. कर्ज से दबे किसान फांसी लगा रहे हैं. उनको फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य भी नहीं मिल रहा है. बता दें कि सोमवार को ही ऐसे ही कई मुद्दों को लेकर कांग्रेस ने भारत बंद का आह्वान किया है. हफ्ते भर में ही दूसरी मौका है, जब किसी न किसी वजह से भारत बंद का आयोजन हो रहा है. मध्य प्रदेश में सवर्णों द्वारा हाल ही में एससी/एसटी एक्ट को लेकर भारत बंद का आह्वान किया था.