मोतिहारी/लखनऊ: उत्तर प्रदेश के बहराइच जिले से भाजपा को सांसद सावित्री बाई फुले के इस्तीफे के बाद बिहार में उसके सहयोगी दल रालोसपा ने भी बगावती तेवर दिखाए हैं. बृहस्पतिवार को सांसद के इस्तीफे के बाद भाजपा को दोहरे झटके झेलने पड़े. उत्तर प्रदेश से दलित सांसद सावित्री बाई फुले ने पार्टी छोड़ते हुए आरोप लगाया कि भाजपा विभाजनकारी राजनीति कर रही है जबकि उसके सहयोगी दल राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) प्रमुख और केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने सत्तारूढ़ राजग गठबंधन के खिलाफ मोर्चा खोलने की घोषणा करते हुए भाजपा को बागी तेवर दिखाए.

भाजपा सांसद के इस्तीफे पर बोली कांग्रेस, ‘डूबते जहाज’ से छलांग लगाना ही समझदारी

‘अब याचना नहीं रण होगा’
बिहार के पूर्वी चंपारण जिला मुख्यालय मोतिहारी में पार्टी के चिंतन शिविर के बाद पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुए कुशवाहा ने भाजपा पर तीखा हमला किया और कवि रामधारी सिंह दिनकर के ‘रश्मिरथी’ में दुर्योधन को दिए भगवान कृष्ण के उपदेश का जिक्र किया. उन्होंने कहा, ‘‘चूंकि मित्रता का भाव खत्म हो चुका है तो अब याचना नहीं रण होगा.’’हालांकि उन्होंने भाजपा के नेतृत्व वाले राजग गठबंधन से अलग होने की घोषणा नहीं की. वहीँ बहराइच से भाजपा सांसद ने दलित नेता बी आर आंबेडकर की पुण्यतिथि को इस्तीफे के लिए चुना. उन्होंने कहा कि वह संविधान को अक्षरश: लागू करवाना चाहती हैं. उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर परोक्ष रूप से इशारा करते हुए कहा, ‘‘देश के चौकीदार की पहरेदारी में संसाधनों की चोरी कराई जा रही है.

भाजपा सांसद सावित्रीबाई फुले का पार्टी से इस्‍तीफा, लगाया समाज को बांटने का आरोप

विफल है नीतीश सरकार
यह पूछे जाने पर कि क्या वह भाजपा के साथ गठबंधन तोड़ेंगे, इस पर उन्होंने कहा, ‘‘मैंने स्पष्ट रूप से कहा है कि यह एक रण है, आप मुझसे और क्या कहने की उम्मीद करते हैं?’’ उन्होंने नीतीश कुमार सरकार पर सभी मोर्चों पर विफल रहने का आरोप लगाया. कुशवाहा लोकसभा चुनाव के लिए सीटों के बंटवारे पर अक्सर सार्वजनिक तौर पर नाराजगी जताते रहे हैं. लखनऊ में भारतीय जनता पार्टी की बहराइच से सांसद सावित्री बाई फुले ने पार्टी से नाराज होकर इस्तीफा दे दिया. उल्लेखनीय है कि फूले कई मौकों पर पार्टी लाइन से हटकर बयान देकर पहले भी विवादों में रही हैं. वह अनुसूचित जातियों से जुड़े मुद्दों पर भाजपा की कटु आलोचना करती रहीं हैं. पार्टी इस समुदाय को लुभाने की कोशिश करती रही है. फुले के जाने से उसकी इस कवायद को धक्का लगा है. इस्तीफे के बाद सांसद सावित्री बाई फुले ने भाजपा पर दलित विरोधी राजनीति करने का भी आरोप लगाया है. (इनपुट एजेंसी)