नई दिल्‍ली/ लखनऊ: आम आदमी पार्टी के राज्य सभा सदस्य और पार्टी की उत्तर प्रदेश इकाई के प्रभारी संजय सिंह के खिलाफ लखनऊ पुलिस ने हजरतगंज पुलिस थाने में दर्ज मामले में राजद्रोह की धारा जोड़ी है. वहीं, राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने शुक्रवार को उच्च सदन में कहा कि उन पर देशद्रोह का मुकदमा दायर कर दिया गया है. सिंह ने उच्च सदन में कहा, ”…हो सकता है कि चार दिन बाद मैं जेल में दिखूं. देशद्रोह का मुकदमा दायर कर दिया गया है.” Also Read - Hathras Case: केरल के पत्रकार सहित 3 अन्य पर राजद्रोह का मामला दर्ज, PFI से लिंक का आरोप

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सिंह के खिलाफ दो सितंबर को एक सर्वेक्षण कराए जाने के मामले में आईपीसी की धारा 501 ए तथा 120 बी के अलावा आईटी अधिनियम के तहत मामला दर्ज कराया गया था. Also Read - स्याही फेंके जाने से भड़के MP संजय सिंह और MLA राखी बिरला, IPS से कहा- आप वर्दी पहन हत्याएं करा सकते हैं

राज्‍यसभा में आप सांसद सिंह ने कहा, ”क्या इस सदन में बैठने वाला सदस्य देशद्रोही है, मैं इस सरकार से पूछना चाहता हूं?” उन्होंने कहा, ” अगर हम देशद्रोही हैं तो जेल में डाल दिया जाए.” Also Read - हाथरस: आप सांसद संजय सिंह, MLA राखी बिरला पर स्याही फेंकी, 'PFI के दलालों वापस जाओ' के नारे लगाए

लखनऊ पुलिस ने गुरुवार को एक नोटिस भेजा 
पुलिस अधिकारी ने बताया कि सिंह को लखनऊ पुलिस ने गुरुवार को एक नोटिस भेजा  है, जिसमें अन्य धाराओं के अलावा राजद्रोह की धारा 124 ए को भी शामिल किया गया है. यह नोटिस संजय सिंह के दिल्ली वाले आवास के नार्थ एवेन्यू के पते पर भेजी गई है.

20 सितंबर को सुबह 11 बजे उपस्थित होना सुनिश्चित करें
हजरतगंज पुलिस थाने के जांच अधिकारी ए.के. सिंह की ओर से संजय सिंह को भेजी गई नोटिस में कहा गया है, ‘आपके विरुद्ध मुकदमा अपराध संख्या 242/2020 आईपीसीकी धारा 153 ए/153 बी/,505 :1::बी:/505:2:/468/469/124 ए/120 बी व 66 सी/66 डी आईटी अधिनियम के तहत पुलिस थाना हजरंतगंज लखनऊ के संबंध में जांच विवेचना की जा रही है, जो संज्ञेय एवं गैर जमानती अपराध है, जिसके संबंध में अपने पक्ष में तथ्यों/ अभिलेखीय साक्ष्य प्रस्तुत करने हेतु मेरे समक्ष 20 सितंबर को सुबह 11 बजे उपस्थित होना सुनिश्चित करें.

निजी कंपनी के तीन निदेशकों के खिलाफ भी राजद्रोह
नोटिस में कहा गया है, ”यदि आप नियत तिथि/समय पर उपस्थित नही होते है तो आपके विरुद्ध दंडनीय कार्यवाही की जाएगी.’ पुलिस के एक प्रवक्ता ने बताया कि संजय सिंह के अलावा एक निजी कंपनी के तीन निदेशकों के खिलाफ भी राजद्रोह और धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया गया है.

संजय सिंह के खिलाफ 13 मामले दर्ज कराए गए थे
सिंह द्वारा जारी किए गये इस सर्वेक्षण में कहा गया था कि योगी आदित्यनाथ सरकार एक विशेष जाति के लिये कार्य कर रही है. इस सर्वेक्षण के बाद संजय सिंह के खिलाफ प्रदेश के विभिन्न जिलों में कम से कम 13 मामले दर्ज कराए गए थे.

यूपी में योगी सरकार ने मेरे खिलाफ देशद्रोह का केस दायर किया : संजय सिंह
नई दिल्‍ली में राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने शुक्रवार को कहा कि सीएम योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश सरकार को उनके खिलाफ राजनीति से प्रेरित राजद्रोह का मामला दर्ज किया गया है. उन्होंने कहा कि, “योगी सरकार द्वारा उनके खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज करने की कार्रवाई का मुख्य कारण यह है कि वह यूपी में ब्राह्मणों और दलितों के खिलाफ हिंसा और अत्याचार पर लगातार आवाज उठा रहे हैं. वहीं, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी कह रहे हैं कि मैं देशद्रोही हूं. पिछले 3 महीने में लगभग 13 मुकदमे उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने मुझ पर लगाए हैं. 3 महीने में 13 मुकदमे उत्तर प्रदेश में आज तक किसी माफिया के खिलाफ नहीं हुए.”

12 दलों के 37 सांसद मेरे साथ हैं
संजय सिंह ने कहा कि, “12 विभिन्न राजनीतिक दलों के 37 सांसद एकजुटता के साथ मेरे साथ हैं और उन्होंने माननीय राज्यसभा सभापति से इस मुद्दे के खिलाफ जांच कराने का आग्रह किया है. वहीं कांग्रेस, टीएमसी, सपा, शिवसेना, राजद, टीआरएस, टीडीपी, डीएमके, अकाली दल, एनसीपी और कई अन्य सांसदों ने उनका समर्थन किया है.”

20 सितंबर को लखनऊ पुलिस के समक्ष पेश होंगे 
राज्यसभा सांसद ने कहा कि, “माननीय राज्यसभा के सभापति ने सदन को यह सुनिश्चित किया है कि इस मामले की जांच की जाएगी. वहीं, 20 सितंबर को वह लखनऊ पुलिस के सामने पेश होंगे.”

पूरे प्रकरण की जांच करने की मांग की है
संजय सिंह ने कहा कि, “मैंने चिट्ठी लिखकर सभापति महोदय से इस पूरे प्रकरण की जांच करने की मांग की है और 12 अलग-अलग राजनीतिक दलों के सांसदों ने भी चिट्ठी लिखकर मेरा समर्थन किया है. मैंने सभापति महोदय से आग्रह किया है कि अगर मैं देशद्रोही हूं तो मेरे खिलाफ कार्रवाई की जाए और मुझे जेल में डाला जाए और यदि नहीं हूं तो इस प्रकार के झूठे केस मुझ पर लगाने वालों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए.”