आगरा: प्यार में पागल एक सीनियर डॉक्टर ने अपनी ही जू्नियर डॉक्टर को बेरहमी से मार डाला और उसका शव सड़क किनारे एक खाली प्लॉट में फेंक दिया. आगरा के सरोजिनी नायडू मेडिकल कॉलेज की जूनियर डॉक्टर योगिता गौतम की बेरहमी से हुई हत्या का खुलासा हो गया है. जालौन के मेडिकल अफसर और योगिता के साथ सात साल से रिलेशन में रहने वाले डॉक्टर विवेक तिवारी ने उसकी हत्या की थी. Also Read - कमरे में घुसा पति तो उड़ गए होश, पत्नी के साथ फांसी के फंदे से झूल रही थीं तीन मासूम बेटियां

डॉक्टर विवेक तिवारी ने अपना गुनाह कुबूल कर लिया है. हिरासत में लिए जाने के बाद उसने कहा है कि उसका योगिता के साथ झगड़ा हुआ था जिसके बाद गुस्से में उसने योगिता की गर्दन दबा दी थी. उसके बाद जब उसे लगा कि योगिता की मौत नहीं हुई है तो गाड़ी में रखे चाकू से उसने तड़पा-तड़पाकर हत्या कर दी और डेडबॉडी को एक खाली प्लॉट में फेंक दिया. Also Read - हाथरस गैंगरेप: पुलिस ने पहले कहा-रेप नहीं हुआ, अब कह रही ये बात, देखें वीडियो

‘एसएसपी ने बताया-दोनों 7 साल से रिलेशनशिप में थे’
आगरा के SSP ने बताया कि डॉक्टर विवेक ने ये बात  पुलिस को बताया है कि वह 7 साल से योगिता के साथ रिलेशनशिप में था. विवेक ने ये बात भी मानी है कि वो योगिता से मिलने जालौन से आगरा आया करता था. इस बार जब वो आगरा आया, तो योगिता के साथ कार में ही उसका किसी बात को लेकर बड़ा झगड़ा हो गया था. Also Read - हाथरस गैंगरेप केस पर बवाल: राहुल-प्रियंका आज जाएंगे हाथरस, पहले ही लगाई गई धारा 144

योगिता का शव डौकी इलाके में मिला था, भाई ने डॉक्टर विवेक पर जताया था शक
आगरा के एसएन मेडिकल कॉलेज में स्त्री रोग विभाग से पीजी कर रही डॉक्टर योगिता का शव बुधवार को डौकी इलाके में एक खाली प्लॉट में पड़ा मिला था. शाम को उसके शव का शिनाख्त होने पर योगिता के भाई डॉक्टर मोहिंदर कुमार गौतम ने डॉक्टर विवेक तिवारी पर संदेह जाहिर किया था और उसके खिलाफ बहन के अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया था. पुलिस टीम ने देर रात डॉ. विवेक तिवारी को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो विवेक ने अपना गुनाह कुबूल कर लिया.