नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश विधान परिषद के सभापति रमेश यादव के छोटे बेटे अभिजीत उर्फ विवेक की मौत के मामले में नया खुलासा हुआ है. विवेक की मौत नहीं हुई बल्कि हत्या हुई है.मां मीरा यादव ने हत्या की बात मान ली है. पुलिस ने मीरा और बड़े बेटे को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो हत्या का खुलासा हुआ. आरोपी मां का कहना है कि अभिजीत शराब पीता था. घटना वाली रात भी वह शराब पीकर घर आया था. कहासुनी के दौरान ही इतनी बड़ी वारदात हो गई. अभिजीत यादव की रविवार को हजरतगंज आवास पर संदिग्ध हालत में मौत हो गई थी.

विवेक का शव दारुल शफा के डी ब्लॉक स्थित कमरा नंबर 28 में पाया गया था. कमरे में मां और भाई भी मौजूद थे. परिवारीजन दावा कर रहे हैं कि रात में सोते वक्त अभिजीत के सीने में तेज दर्द था. इसके बाद वह सो गया और सुबह वह बिस्तर पर मृत पाया गया. पुलिस ने मौत को संदिग्ध बताया है. विधान परिषद के सभापति रमेश यादव ने दो शादियां की हैं. पहली पत्नी प्रेमा देवी है जो एटा जिले में रहती हैं. उनका बेटा आशीष यादव पूर्व में एटा सदर से विधायक भी रह चुका है. दूसरी पत्नी मीरा यादव हैं जो राजधानी के दारुल शफा स्थित बी ब्लाक के कमरा नंबर 137 में अपने दो बेटों अभिषेक यादव उर्फ लक्की व छोटे बेटे विवेक यादव उर्फ अभिजीत यादव उर्फ विक्की रहती हैं.

रविवार सुबह विवेक उर्फ अभिजीत अपने बिस्तर पर मृत अवस्था में पड़ा मिला. परिजनों का कहना है कि विवेक शनिवार रात करीब 11 बजे घर आया था. तब उसने सीने में दर्द की जानकारी मां को दी थी. मां ने सीने में मालिश कर उसे सुला दिया था. सुबह जब काफी देर तक अभिजीत नहीं उठा तो मां उसे उठाने पहुंची. शरीर में कोई हरकत न होती देख भाई को भी बुलाया. भाई ने विवेक की नब्ज जांची तो पता चला उसकी मौत हो चुकी थी. सूचना पर पहुंची पुलिस ने मौत को संदिग्ध बताया. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में गला दबने से मौत की पुष्टि होने के बाद पुलिस ने आरोपी मां और अभिजीत के बड़े भाई को हिरासत में ले लिया. पूछताछ के बाद हत्या का खुलासा हुआ.