शाहजहांपुर: पति कभी एमएलसी हुआ करते थे. इलाके में राजनैतिक हनक थी. एक इशारे पर ख्वाहिशें पूरी होती थीं, उस महिला ने 80 साल की उम्र में भूख से दम तोड़ दिया. इसे समय की कहें या बेटे की निष्ठुरता कि कमरे में बंद रही बुजुर्ग महिला की भूख से तड़प-तड़प कर जान निकल गई. रेलवे में तैनात टीईटी बेटा घर के कमरे में बंद कर के गया. एक हफ्ते तक वापस नहीं आया. इस बीच भूख से तड़पी उसकी बुजुर्ग मां ने दम तोड़ दिया. घर से दुर्गन्ध आने पर लोगों ने पुलिस को सूचना दी. पुलिस ने दरवाजा तोड़ा तो बुजुर्ग महिला की लाश जमीन पर पड़ी मिली. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पता चला कि बुजुर्ग महिला की जान भूख से गई. Also Read - Happy Birthday Yogi Adityanath: गांव की मिट्टी की चमक आज भी चेहरे पर दमकती है, देखें योगी आदित्यनाथ के CM बनने का सफर

Also Read - B'day Spl: CM योगी आदित्यनाथ का 48वां जन्मदिन आज, PM मोदी ने ट्वीट कर दी बधाई, जानें सीएम बनने तक की खास बातें

घर में बंद कर के गया बेटा, किसी से नहीं मांग सकीं मदद Also Read - यूपी के प्रतापगढ़ में ट्रक- स्कार्पियो के बीच भयंकर भिड़ंत, बिहार के 9 लोगों की मौत

मामला यूपी के शाहजहांपुर का है. पुलिस अधीक्षक नगर दिनेश त्रिपाठी ने सोमवार को बताया कि रेलवे में तैनात टीटी सलिल चौधरी लखनऊ के आलमबाग का निवासी है. शाहजहांपुर में रेलवे में बतौर टीटी उसकी 2005 में तैनाती हुई थी. उसे रेलवे परिसर में सरकारी आवास मिला है जहां वह अपनी मां के साथ रहता था. त्रिपाठी ने बताया कि कल रविवार को उसके आवास से तीव्र दुर्गंध आने पर लोगों ने पुलिस को सूचना दी. मकान में ताला लगा था. पुलिस ने ताला तोड़ा तो वहां करीब 80 साल की वृद्धा का सड़ा गला शव मिला. स्टेशन अधीक्षक ओम शिव अवस्थी ने सोमवार को बताया कि सलिल अक्सर ड्यूटी से गायब रहता था. वह शराब का आदी है. उसका दो बार निलंबन हो चुका है. करीब दो माह से वह ड्यूटी पर नहीं आया. पुलिस ने बताया कि टीटी बृहस्पतिवार को ताला बंद करके गया था और अभी तक नहीं आया है.

2001 से नरेंद्र मोदी के PRO रहे वरिष्ठ पत्रकार जगदीश ठक्कर का निधन, पीएम ने जताया शोक

अक्सर ऐसा ही करता था टीईटी बेटा

सलिल चौधरी शराब का लती है. रेलवे में टीईटी है. लोग बताते हैं कि सलिल अक्सर मां लीलावती को घर में बंद कर चला जाता था. वह पहले भी कई बार ऐसा कर चुका था. इस भी ऐसा किया. बताया जा रहा है कि सलिल का उसकी पत्नी से तलाक हो चुका था. मां उसके साथ अकेली ही रहती थी. पुलिस के अनुसार बुजुर्ग महिला जमीन पर पड़ी रहती थी. जब भूख से मौत की बात पता चली तो घर खंगाला लेकिन घर में अन्न का एक दाना भी नहीं मिला. बताते हैं कि सलिल थोड़ा बहुत कुछ रखकर भी गया था लेकिन वो सब दो तीन दिन में खर्च हो गया. घर बाहर से बंद था इसलिए वह किसी से खाने को भी नहीं मांग सकी.

पति थे एमएमसी, संपन्न परिवार से रखती रहीं ताल्लुक

पुलिस के अनुसार, लीलावती आम महिला नहीं थी. उनके पति राम खेर सिंह कभी एमएलसी हुआ करते थे. वह कभी लखनऊ में रहती थीं. धनी परिवार से ताल्लुक रखती थीं. एसएसपी ओम शिव अवस्थी ने बताया कि लीलावती के बेटे से संपर्क नहीं हो पाया. फिर मौत की सूचना बेटे को व्हाट्स एप के जरिए दी गई, लेकिन अब तक कोई जवाब बेटे की ओर से नहीं आया है.