लखनऊ: प्रगतिशील समाजवादी पार्टी-लोहिया प्रमुख शिवपाल सिंह यादव ने केन्द्र और उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ भाजपा पर रविवार को निशाना साधते हुए कहा कि उसने देश को कमजोर किया है और वह लोकसभा चुनाव में सियासी फायदा लेने के लिये दंगा भड़काना चाहती है. शिवपाल ने अपनी पार्टी की पहली रैली, ‘जनाक्रोश महारैली’ को संबोधित करते हुए कहा, ‘भाजपा ने देश को कमजोर किया है. हम भाजपा को देश और प्रदेश से हटाएंगे … हम शांति और भाईचारा चाहते हैं लेकिन सांप्रदायिक लोग दंगे भड़काना चाहते हैं.’

VHP की रैली में RSS ने कहा- कोर्ट राम जन्मभूमि का सम्मान करे, संकल्प पूरा करने का समय आ गया

ख़ास बात ये रही कि मुलायम सिंह यादव भी रैली में पहुंचे. मुलायम की मौजूदगी में शिवपाल ने लोगों के सामने कुर्ते को झोली के रूप में दिखाते हुए कहा कि मुझे पता नहीं था कि अलग पार्टी बनानी पड़ेगी. मेरे पास रुपए नहीं हैं. आप सभी को सहयोग करना पड़ेगा. हम सरकार बनाकर हर वर्ग को सहयोग देंगे. उन्होंने कहा कि वर्ष 1992 में तत्कालीन भाजपा सरकार द्वारा सुरक्षा की गारंटी का हलफनामा देने के बावजूद बाबरी मस्जिद को तोड़ दिया गया था. वह देश में फिर से वही आग फैलाना चाहती है. आज लोग मुसलमान का नाम लेने में घबराने लगे हैं. शिवपाल ने कहा, ‘पिछली 25 नवम्बर को अयोध्या में ‘धर्म सभा’ के नाम पर माहौल खराब करने की कोशिश की गयी थी, लेकिन प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के लोग सड़कों पर निकल पड़े थे कि हम अयोध्या में दंगा नहीं होने देंगे.’

शिवपाल यादव का दावा, CBI के डर से ‘महागठबंधन’ बनाने से डर रहे गैर भाजपा दल

शिवपाल ने कहा कि ‘वर्तमान की बेईमान, निकम्मी और झूठी सरकार को हटाने की आवश्यकता है. उन्होंने कहा कि हम और नेता जी (सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव) मुसलमानों के साथ खडे़ हैं. हम कर्मचारियों को पुरानी पेंशन भी देना चाहते हैं. वायदा करते हैं कि हम पुरानी पेंशन दिलाने का काम करेंगे. संविदाकर्मियों को भी समायोजित करने की दिशा में वह गंभीरता से प्रयत्न करेंगे.’ उन्होंने नारेबाजी के बीच आश्वासन दिया कि नौजवानों के लिए रोजगार की वह व्यवस्था करेंगे. रैली स्थल रमाबाई आंबेडकर मैदान पूरी तरह भरा हुआ था. मैदान के बाहर की सड़कों पर भी जनसैलाब उमड़ा था. रैली में सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव और उनकी छोटी बहू अपर्णा यादव शामिल हुए.