लखनऊ: समाजवादी सेक्युलर मोर्चे के संस्थापक शिवपाल यादव ने बुधवार को छह, लाल बहादुर शास्त्री मार्ग स्थित अपने नए बंगले में प्रवेश किया. मोर्चा के एक नेता ने बताया कि पूजा और हवन के बाद शिवपाल ने आज अष्टमी के अवसर पर अपने नये बंगले में प्रवेश किया.Also Read - AIMIM ओवैसी बोले- कांग्रेस, सपा के लोग कलीम सिद्दीकी पर मुझसे बोलने को कह रहे, मैंने उनसे पूछा...

Also Read - UP Assembly Election 2022: सपा-RLD के बीच सीटें तय, चाचा शिवपाल के साथ भी गठबंधन करेंगे अखिलेश यादव

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार द्वारा हाल ही में आवंटित किये गये बंगले में बुधवार सुबह शिवपाल अपने समर्थकों के साथ पहुंचे और पूजा अनुष्ठान के बाद गृह प्रवेश किया. समाजवादी पार्टी से बगावत कर चुके शिवपाल यादव को जो नया बंगला मिला है वहां पहले बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती रहती थीं. उन्होंने उच्चतम न्यायालय के आदेश के बाद यह बंगला खाली किया था. शिवपाल को सरकारी आवास मिलने पर कई लोगों ने सवाल उठाए थे. वहीं उनके भतीजे और समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने तंज कसते हुए शिवपाल के समाजवादी सेक्युलर मोर्चे को भाजपा की टीम बी बताया था. Also Read - Mahant Narendra Giri Death Case: सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा-अपराधी कोई भी हो, बख्शा नहीं जाएगा

सपा से बगावत पर ‘योगी कृपा’, शिवपाल यादव को मिला बसपा सुप्रीमो मायावती का बंगला

कल से शुरू करेंगे पार्टी का काम

शिवपाल ने इस पर कहा कि भाजपा ने उन पर कोई मेहरबानी नहीं की है. उन्होंने कहा कि खुफिया जानकारी के मुताबिक, उन्हें खतरा था और वह 5 बार विधायक रह चुके हैं. समाजवादी सेक्युलर मोर्चे के प्रमुख ने कहा कि यह पुरानी व्यवस्था है और उन्हें भी पुरानी व्यवस्था के अनुसार बंगला मिला है. शिवपाल ने बताया कि आज हमने घर में प्रवेश कर लिया है. यहां पूजा हो गई है. गुरुवार से यहां पर पार्टी का काम शुरू हो जाएगा.

शिवपाल की योगी सरकार से बढ़ीं नजदीकियां, मिल सकती है जेड श्रेणी की सुरक्षा

अखिलेश को दिया जवाब

अखिलेश के तंज पर शिवपाल ने कहा कि जो लोग बंगला मिलने पर सवाल उठा रहे हैं, उन्हें पता होना चाहिए कि यह पुरानी व्यवस्था है. जो लोग ऐसा कह रहे हैं उन्हें भी बहुत बंगले दिए गए हैं. शिवपाल ने आगे कहा कि उत्तर प्रदेश की जनता का विश्वास बहुत से दलों से उठ गया है इसलिए हमने समाजवादी सेक्युलर मोर्चा बनाया है. इसी बंगले से हम काम करेंगे और यहीं पर हम लोगों से मिलेंगे.