नई दिल्ली: अयोध्या में राम मंदिर (Ram Mandir) निर्माण जल्द ही शुरू हो जाएगा. मंदिर निर्माण के लिए दानदाता चांदी की ईंटें दान कर रहे हैं. दानदाताओं ने इतनी चांदी की ईंटें दान कर डालीं कि इन्हें सुरक्षित रखने को जगह ही नहीं बची है. मुश्किल में पड़े राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट (Shri Ram Janmabhoomi Teerth Kshetra) को अपील करनी पड़ी है कि दानदाता अब चांदी की ईंटें दान न करें. Also Read - UP: अयोध्या में कोरोना के चलते रामनवमी मेला स्थगित, सीमाएं सील होंगी, हरिद्वार कुंभ के संतों को प्रवेश की इजाजत नहीं

ईंटों की बजाय कैश दान करें श्रद्धालु
महामंत्री चंपत राय का कहना है कि देश भर से काफी संख्या में दानदाता चांदी की ईंटों को राम मंदिर निर्माण के लिए दान दे रहे हैं. जिसकी वजह से राम मंदिर ट्रस्ट एक बड़ी दुविधा में फंस गया है. देशभर से दानदाता चांदी की सिल्ली राम मंदिर ट्रस्ट को दान दे रहे हैं. इस वजह से बैंक के सामने समस्या खड़ी हो गई है. बैंक के पास इतना बड़ा लॉकर नहीं है, जिसमें चांदी की इन शैलियों को सुरक्षित रखा जा सके. इसलिए राम मंदिर ट्रस्ट अपील कर रहा है कि चांदी की ईंटों की जगह कैश ट्रस्ट के बैंक अकाउंट में दान स्वरूप जमा कराई जाए, जिससे राम मंदिर निर्माण में इस धन को प्रयोग में लाया जा सके. Also Read - राम जन्मभूमि अयोध्या में रामायण युग से जुड़े पांच तालाबों का होगा कायाकल्प, ये है सरकार की योजना

एक क्विंटल से ज्यादा चांदी की ईंटें दान में आईं
ट्रस्ट के अनुसार अब तक दानदाताओं ने 1 क्विंटल से ज्यादा चांदी ईंटें दान दी हैं. इसके साथ ही अन्य धातु रूपों में भी दान दिया गया है. इतनी मात्रा में इस तरह का दान आने से बैंक ने जगह की कमी की समस्या ट्रस्ट के सामने रखी है. बता दें कि 5 अगस्त को राम मंदिर भूमि का पूजन किया जाएगा. इसके साथ ही राम मंदिर निर्माण शुरू हो जाएगा. इसे लेकर श्रद्धालु और दानदाता उत्साहित हैं. Also Read - अयोध्या में 5 तालाबों का होगा जीर्णोद्धार, रामायण युग के बताए जाते हैं ये सरोवर