बहराइच: पाकिस्तान में एक गुरुद्वारे के ग्रंथी की पुत्री का जबरन धर्म परिवर्तन कर मुस्लिम युवक से निकाह कराये जाने के खिलाफ बहराइच के सिख समुदाय ने नाराजगी जाहिर करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को इस सिलसिले में ज्ञापन भेजकर यह मामला संयुक्त राष्ट्र में ले जाने की मांग की है. सिखों के प्रतिनिधिमंडल ने शनिवार को मोदी को संबोधित ज्ञापन जिलाधिकारी के माध्यम से भेजा है.

गुरुद्वारा कमेटी के महामंत्री भूपेन्द्र सिंह वालिया ने रविवार को बताया कि प्रधानमंत्री को संबोधित ज्ञापन में कहा गया है कि पाकिस्तान में सिखों को जबरन इस्लाम धर्म कुबूल करवाया जा रहा है. इसकी ज्यादातर शिकार महिलाएं हो रही हैं.

उन्होंने कहा कि एक ओर जहां पूरे विश्व में श्री गुरु नानक देव का 550 वां प्रकाश उत्सव हर्षोल्लास से मनाया जा रहा है. वहीं, पाकिस्तान में हाल ही में ननकाना साहब गुरुद्वारे के मुख्य ग्रंथी की बेटी को सशस्त्र लोगों द्वारा अगवा कर धर्म परिवर्तन कराके एक आतंकी संगठन के सदस्य से उसका जबरन निकाह करा दिया गया है.

वालिया ने बताया कि ज्ञापन में कहा गया है कि इस घटना से पाकिस्तान, भारत व अन्य देशों में रह रहे सिखों में जबरदस्त आक्रोश है. सिखों की मांग है कि पीड़िता युवती को सिख धर्म में वापस लगा कर उससे जबरन निकाह करने वाले मोहम्मद हसन पर कार्रवाई की जाय. पाकिस्तान में रह रहे अल्पसंख्यक सिखों को सुरक्षा प्रदान कर दहशत समाप्त कराई जाय तथा इस मामले को संयुक्त राष्ट्र के सामने उठाया जाय.