शाहजहांपुर (उप्र): भाजपा नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री चिन्मयानंद से पूछताछ के बाद एसआईटी ने शुक्रवार को उन पर आरोप लगाने वाली पीड़िता छात्रा से पूछताछ शुरू की. उच्चतम न्यायालय के आदेश पर गठित विशेष जांच दल (एसआईटी) की टीम ने बृहस्पतिवार देर रात स्वामी चिन्मयानंद से सात घंटे तक पूछताछ की. एसआईटी की टीम ने चिन्मयानंद के आवास दिव्य धाम में उनके शयन कक्ष को भी सील कर दिया.

 

गौरतलब है कि एक छात्रा ने चिन्मयानंद पर बलात्कार का आरोप लगाया है. पीड़िता का दावा है कि उसके कई बार गुहार लगाने के बावजूद उत्तर प्रदेश की पुलिस ने न तो प्राथमिकी दर्ज की और न ही आरोपी से पूछताछ की. पुलिस सूत्रों ने बताया कि स्थानीय पुलिस छात्रा को चिन्मयानंद के निवास पर लेकर आई जहां एसआईटी ने अपनी जांच जारी रखी और उसकी मौजूदगी में सबूत एकत्र किये. फोरेंसिक विशेषज्ञ की टीम भी मौके पर मौजूद रही. पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री चिन्मयानंद के अधिवक्ता ओम सिंह ने शुक्रवार को फोन पर पीटीआई-भाषा को बताया कि बृहस्पतिवार की शाम छह बजकर 20 मिनट पर पुलिस लाइन स्थित एसआईटी के अस्थाई कार्यालय में चिन्मयानंद से पूछताछ शुरू की गई जो रात करीब एक बजे तक चली.

चिन्मयानंद के घर के बाहर पुलिस बल तैनात
सिंह ने बताया कि एसआईटी की टीम कड़ी सुरक्षा में चिन्मयानंद को उनके आवास ‘दिव्य धाम’ लेकर गई और उनके शयन कक्ष का मुआयना किया. रात अधिक होने के कारण शयन कक्ष सील कर दिया गया. संभावना है कि शुक्रवार को फॉरेंसिक टीम के विशेषज्ञ शयन कक्ष की जांच करेंगे. सूत्रों के हवाले से जानकारी मिली है कि एसआईटी ने चिन्मयानंद से जांच चलने तक शहर छोड़ कर बाहर ना जाने को कहा है. चिन्मयानंद के घर के बाहर पुलिस बल तैनात कर दिया गया है.

पीड़िता के कॉलेज के प्रधानाचार्य से एसआईटी की टीम ने की पूछताछ
इससे पहले बृहस्पतिवार को पीड़िता के कॉलेज के प्रधानाचार्य तथा पीजी कॉलेज के प्रधानाचार्य से एसआईटी की टीम ने पूछताछ की. वहीं दूसरी और पीड़िता ने एसआईटी को एक पत्र देकर शारीरिक शोषण और दुष्कर्म का मामला दर्ज करने की मांग की है. एसआईटी ने बुधवार को पीड़िता का चिकित्सीय परीक्षण कराया था. गौरतलब है कि स्वामी सुखदेवानंद विधि महाविद्यालय में एलएलएम करने वाली एक छात्रा ने 24 अगस्त को एक वीडियो वायरल करके कहा था कि एक संन्यासी ने कई लड़कियों की जिंदगी बर्बाद कर दी है और उसे और उसके परिवार को इस संन्यासी से जान का खतरा है.