शाहजहांपुर : सीता माता को टेस्ट ट्यूब बेबी बताने वाले विवादित बयान को लेकर उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा के विरुद्ध शाहजहांपुर के मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में परिवाद दायर किया गया है. इस मामले में दिनेश शर्मा के साथ ही भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह तथा पार्टी प्रदेश अध्यक्ष महेन्द्र नाथ पाण्डेय को भी सह-आरोपी बनाया गया है. अदालत में उप मुख्यमंत्री शर्मा, अमित शाह तथा महेंद्र नाथ पांडे के विरुद्ध धारा 298, 120 बी के तहत परिवाद दायर कर लिया है तथा मामले की अगली सुनवाई 14 जून को निर्धारित की है.

ये था मामला
गौरतलब है कि यूपी के डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने कुछ दिनों पूर्व स्किल मैनेजमेंट से सम्बंधित एक कार्यक्रम के दौरान दिए गए एक विवादित बयान में प्रभु राम की पत्नी सीता माता को टेस्ट ट्यूब बेबी बताया था जिसे लेकर खासा हंगामा खड़ा हो गया था. हिंदूवादी संगठनों ने इसे धार्मिक भावनाएं आहत करने वाला बयान बताया और प्रदेश कांग्रेस ने तो दिनेश शर्मा के लिए बुद्धि-शुद्धि यज्ञ का भी आयोजन किया था. अधिवक्ता बीएन सिंह यादव ने मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में गत चार जून को दायर किए गये परिवाद संख्या 3567 में प्रदेश के उपमुख्यमंत्री डाक्टर दिनेश शर्मा पर आरोप लगाया है कि उन्होंने हिंदुओं की भावनाओं को आहत करते हुए माता सीता को टेस्ट ट्यूब बेबी बताया है.

पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज करने से किया इंकार
अधिवक्ता बीएन सिंह यादव ने कहा कि उपमुख्यमंत्री के सार्वजनिक रूप से यह टिप्पणी करने के बाद भी भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह तथा प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडे ने उपमुख्यमंत्री शर्मा के विरुद्ध कोई कार्यवाही नहीं की. इससे जाहिर होता है कि वे दोनों भी इस अपराध में शामिल हैं. उन्होंने कहा कि वह इस मामले को लेकर सदर बाजार थाने गए थे लेकिन रिपोर्ट दर्ज नहीं की गई थी तब उन्होंने अदालत की शरण ली. अदालत में उप मुख्यमंत्री शर्मा, अमित शाह तथा महेंद्र नाथ पांडे के विरुद्ध धारा 298, 120 बी के तहत परिवाद दायर कर लिया है. अदालत ने मामले की अगली सुनवाई 14 जून को निर्धारित की है. ( इनपुट एजेंसी )