लखनऊ: यूपी के सीतापुर जिले में विधवा पेंशन को लेकर बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया है. दरअसल जिले के एक युवक, जिसकी शादी आठ माह पहले ही हुई है, उसकी पत्‍नी के खाते में विधवा पेंशन का पैसा पहुंचा. इस बारे में जब पति ने विस्‍तार से पूछा तो पता चला कि उसकी ससुराल में सास समेत उस गांव की करीब 22 महिलाओं के खाते में विधवा पेंशन की रकम आई है, जबकि सभी के पति अभी जिंदा हैं. युवक ने मामले की शिकायत उच्‍चधिकारियों से की है. सीतापुर में हुए इस प्रकरण से साफ है कि अधिकारी सरकारी योजनाओं को किस तरह पलीता लगा रहे हैं. Also Read - CM योगी ने दूसरे राज्‍यों से की अपील, यूपी के लोगों के खाने-रहने की व्‍यवस्‍था करें, हम खर्च देंगे

  Also Read - COVID-19: लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर पुलिस ने बनाया मुर्गा, सामान सहित रेंगने की मिली सजा

जानकारी के मुताबिक, यूपी के सीतापुर के बट्सगंज का संदीप कुमार महमूदाबाद ब्लॉक के जाफरपुर गांव में सफाई कर्मी है. सीतापुर कही के परसेंडी ब्लॉक के शेरपुर सरांवा में रोहन लाल की बेटी प्रियंका से आठ महीने पहले उसकी शादी हुई थी. बीते दिनों संदीप ने ससुराल में अपनी पत्नी की पासबुक ले जाकर संबंधित बैंक से अपडेट करवाई. पासबुक अपडेट होने के बाद उसे पता चला कि 28 सितंबर को पीएफएमएस (पब्लिक फाइनेंसियल मैनेजमेंट सिस्टम) के जरिये तीन हजार रुपये उसकी पत्‍नी के खाते में भेजे गए थे. इस पर उसने बैंक से जानकारी प्राप्‍त की तो पता चला कि पैसे प्रोबेशन विभाग के माध्‍यम से विधवा पेंशन के तौर पर भेजे गए हैं.

यूपी में 2 करोड़ रुपए के ‘छात्रवृत्ति घोटाले’ का पर्दाफाश, 10 संस्थानों के खिलाफ FIR दर्ज, जांच जारी

डीएम सीतापुर से की मामले की शिकायत
इस पर उसने मामले की शिकायत जिला प्रोबेशन अफसर से की. उसने बताया कि जीवित रहते हुए ही उसकी पत्नी के खाते में विधवा पेंशन भेजी जा रही है. इस पर तत्‍काल रोक लगाई जाए. इसके बावजूद मामले में कोई कार्रवाई नहीं की गई. इसके बाद उसने मामले की शिकायत जिलाधिकारी सीतापुर से की. उसने बताया कि मामले की शिकायत के बाद उसे लगातार धमकियां भी मिल रही हैं. इस संबंध में डीएम ने मामले की जांच की बात कही है.