सीतापुर: नगर पालिका के अधिशाषी अधिकारी को विजिलेंस टीम ने 1 लाख रूपये की रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा. पकड़े गए अधिकारी को फिलहाल पुलिस को सौंपा गया है. उससे पूछताछ जारी है. ईओ नगरपालिका निहालचंद को लखनऊ की विजिलेंस टीम ने सीतापुर कलेक्ट्रेट परिसर से कुछ दूरी पर स्थित उनके कार्यालय से 1 लाख रूपये की रिश्वत की रकम के साथ रंगे हाथों दबोचा गया.

राजा भैया की नई राजनीतिक पार्टी का ऐलान, SC/ST कानून, प्रमोशन में आरक्षण का करेंगे विरोध

विजिलेंस टीम ने बनाई योजना
शुक्रवार शाम को विजिलेंस टीम की इस कार्रवाई के बाद पूरे पालिका परिसर में अफरा-तफरी मच गई. उनके कार्यालय के बाहर कर्मचारियों व अन्य लोगों की भीड़ जमा हो गई. सीतापुर नगर पालिका परिषद के अधिशाषी अधिकारी निहालचंद की शिकायत अनुभव सक्सेना नामक ठेकेदार ने की थी. अब तक मिली जानकारी के मुताबिक ठेकेदार अनुभव सक्सेना जो कि बिल्डिंग निर्माण का कार्य करता है, उसके पास पालिका के कार्य का ठेका था जिसके लिए उसके 35 लाख रूपये के पेमेंट का बकाया था. फिलहाल इस मामले पर अभी सीतापुर प्रशासन अथवा नगर पालिका के किसी अधिकारी अथवा कर्मचारी ने कुछ भी बोलने से इंकार कर दिया. पुलिस का कहना है कि पकड़े गए अधिशाषी अधिकारी को मजिस्ट्रेट सामने पेश किया जाएगा उसके बाद आगे की कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी.

अधिशाषी अधिकारी निहाल चंद उसके पेमेंट में काफी दिनों से हीला- हवाली कर रहे थे और पेमेंट के एवज में रिश्वत की डिमांड कर रहे थे. अधिशाषी अधिकारी की मांग से तंग आकर ठेकेदार ने उनकी शिकायत विजिलेंस विभाग में कर दी जिसके बाद हरकत में आई विजिलेंस टीम ने उन्हें रंगे हाथों पकड़ने के लिए पूरा प्लाट रचा. राजधानी लखनऊ की विजिलेंस टीम ने ठेकेदार द्वारा अधिशाषी अधिकारी को रिश्वत की रकम देने को कहा और जब उन्होंने रिश्वत की रकम ली उसी समय उनके कार्यालय से उन्हें रंगे हाथों पकड़ लिया.

महिलाओं को पैसे बांट ‘रिवाज’ निभाए, आचार संहिता का नहीं किया उल्लंघन: भाजपा विधायक