सीतापुर: उत्तर प्रदेश के सीतापुर जिले के रामपुर कलां पुलिस स्टेशन में एक शख्स की हिरासत के दौरान कथित रूप से हुई मौत के मामले में पुलिस निरीक्षक और अन्य पुलिसकर्मियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. अपर पुलिस अधीक्षक सीतापुर महेन्द्र चौहान के मुताबिक मृतक गोविंद और उसकी पत्नी माया के बीच 11 सितंबर को झगड़ा हुआ. इसके बाद माया ने पुलिस को बुला लिया. पुलिस गोविंद को रामपुर कलां पुलिस स्टेशन ले गई, जबकि उसकी पत्नी को माता-पिता के पास पहुंचा दिया. Also Read - First Love Jihad Law Case: यूपी में 'लव जिहाद' कानून के तहत पहला मामला दर्ज, हिंदू लड़की का धर्म बदलवाना चाहता था उवैश अहमद

Also Read - सरकार द्वारा बनाए जा रहे धर्मांतरण कानून का पूरी तरह विरोध करेगी सपा: अखिलेश यादव

किसान को खेत में मिला 30 लाख का डायमंड, सोना-हीरे उगल रही यहां की धरती, जानें क्यों Also Read - भयावह: शख्स ने पूरे परिवार को कमरे में बंद कर जिंदा जलाया, खुद भी फांसी पर झूला

उन्होंने बताया कि गोविंद की पत्नी और परिवार वालों ने आरोप लगाया कि पुलिस ने गोविंद की जबरदस्त पिटाई की और जब वह बुरी तरह से जख्मी हो गया तो उसे सरैया के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया. उसकी तबियत बिगड़ती गयी और बाद में उसकी मौत हो गई. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पाया गया कि गोविंद की मौत उसके शरीर पर लगी चोटों के कारण हुई.

इस मामले में थाने के इंस्पेक्टर रणविजय सिंह को पुलिस लाइन भेज दिया गया है और एससी एसटी एक्ट और हत्या के मामले में एफआईआर दर्ज कर ली गयी है. एएसपी चौहान के मुताबिक गांव में कोई अप्रिय घटना न हो इसको देखते हुये सुरक्षा कड़ी कर दी गयी है तथा क्षेत्राधिकारी सिधौली को मामले की जांच करने को कहा गया है.