नई दिल्ली: श्रीराम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण की तैयारियों के बीच विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) ने दिल्ली के 11 पवित्र स्थानों की मिट्टी पीतल के कलशों में भर कर शुक्रवार को अयोध्या भेजी . विहिप के केन्द्रीय कार्याध्यक्ष आलोक कुमार एवं दिल्ली प्रांत अध्यक्ष कपिल खन्ना ने दिल्ली में आयोजित कार्यक्रम के दौरान मिट्टी से भरे पीतल के कलशों को अयोध्या के लिए रवाना किया. Also Read - अयोध्या में मिली ज़मीन पर मस्जिद के पक्ष में नहीं है मुस्लिम निकाय, कहा- हॉस्पिटल और स्कूल बने

आलोक कुमार ने संवाददाताओं को बताया कि पांच अगस्त को भूमि पूजन के साथ बहु प्रतीक्षित मंदिर निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा. मंदिर की नींव में डालने के लिए देशभर की नदियों का जल और पवित्र स्थानों की मिट्टी को अयोध्या भेजे जा रहे हैं. Also Read - अयोध्‍या के राम मंदिर का 1000 साल का होगा जीवन काल, तेज भूकंप से भी नहीं होगा नुकसान

उन्होंने बताया कि विहिप की दिल्ली प्रांत इकाई ने इस पवित्र मिट्टी को इकट्ठा किया है. इन पवित्र स्थानों में सिद्ध पीठ कालकाजी , पुराना किला स्थित प्राचीन पांडव कालीन भैरव मंदिर, चांदनी चौक स्थित गुरुद्वारा शीशगंज, गौरी शंकर मंदिर, श्री दिगंबर जैन लाल मंदिर, कनॉट प्लेस स्थित प्राचीन हनुमान मंदिर, प्राचीन शिव नवग्रह मंदिर, प्राचीन काली माता मंदिर, श्री लक्ष्मी नारायण मंदिर बिरला मंदिर, मंदिर मार्ग स्थित भगवान वाल्मीकि मंदिर , करोल बाग स्थित बद्री भगत झंडेवालान मंदिर शामिल हैं. Also Read - मशहूर शायर मुनव्वर राना ने अयोध्या में मस्जिद के लिए दी गई जमीन पर राजा दशरथ के नाम से अस्पताल बनाने की मांग की

विहिप प्रांत अध्यक्ष कपिल खन्ना ने वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के दौरान विहिप दिल्ली प्रांत द्वारा किये गये कार्यों की जानकारी दी. उन्होंने कहा कि अब हम कोरोना से ग्रस्त मरीजों को प्लाज्मा की व्यवस्था कराने एवं रक्षाबंधन के शुभ अवसर पर महिलाओं को स्वरोजगार देते हुए राखियां बनावाकर उनकी बिक्री करवाने पर जोर दे रहे हैं .