लखनऊ: सपा ने लोकसभा चुनाव में आपसी गठबंधन की नाकामी के बाद बसपा प्रमुख मायावती के तल्ख बयानों पर पलटवार करते हुए रविवार को कहा कि जनता बसपा की असलियत जानती है और उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा उपचुनाव में वह उसे जवाब देगी. सपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने एक सवाल पर कहा कि बसपा प्रमुख भले ही सपा को बुरा-भला कह रही हों, लेकिन जनता उनकी असलियत जानती है. Also Read - भाजपा सरकार की न तो नीतियां सही हैं, नीयत, योगी राज में विकास का पहिया थम गया है : अखिलेश

Also Read - MP Bypolls: कमलनाथ ने BJP की महिला प्रत्याशी को कहा 'आइटम' तो भड़कीं मायावती, कांग्रेस से की यह मांग...

बसपा प्रमुख के बयानों पर सपा अध्यक्ष की कोई प्रतिक्रिया नहीं आने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि प्रदेश की 12 विधानसभा सीटों के लिये होने वाले उपचुनाव में जनता बसपा को जवाब देगी. चौधरी ने कहा कि उनकी पार्टी ने उपचुनाव की तैयारी शुरू कर दी है और सपा बसपा समेत सभी विरोधियों के खिलाफ पूरी तैयारी से लड़ेगी. गौरतलब है कि सपा और बसपा ने हाल में सम्पन्न लोकसभा चुनाव आपसी गठबंधन करके लड़ा था. हालांकि इस गठजोड़ को अपेक्षित कामयाबी नहीं मिल सकी थी. बसपा को 10 और सपा को पांच सीटें मिली थीं. वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में बसपा एक भी सीट नहीं जीत सकी थी. बहरहाल, मायावती ने पिछले दिनों बसपा की एक बैठक में सपा से गठबंधन को नुकसानदेह बताते हुए इसे खत्म कर दिया था और भविष्य में सभी चुनाव अपने बलबूते लड़ने का एलान किया था. Also Read - दुष्कर्म की घटनाओं को लेकर अखिलेश यादव ने कहा- 'रोमियो स्क्वॉड' हुआ लापता, अब यही हाल 'मिशन शक्ति' का भी होगा

अब ‘मुलायम’ की राह पर चलने की कोशिश में अखिलेश की सपा, उपचुनाव के लिए कर रही ये तैयारी

यहां होंगे उपचुनाव

गौरतलब है कि हाल में हुए लोकसभा चुनाव में प्रदेश के 11 विधायक सांसद बन गये हैं. इनमें से आठ विधायक भाजपा और एक-एक विधायक सपा और बसपा के हैं. इन सीटों में रामपुर, टूंडला, इगलास, गंगोह, जलालपुर, जैदपुर, बलहा, लखनऊ कैंट, गोविंद नगर, प्रतापगढ़ और मानिकपुर शामिल हैं. इन सीटों पर उपचुनाव होना है. हालांकि उसकी तारीख अभी घोषित नहीं हुई है.