लखनऊ: कैराना लोकसभा और नूरपुर विधानसभा सीट पर गठबंधन को मिली जीत पर यूपी के पूर्व मुख्‍यमंत्री और सपा के राष्ट्रीय अध्‍यक्ष अखिलेश यादव ने जनता को बधाई देते हुए उनका धन्‍यवाद किया है. उन्होंने कहा कि गठबंधन ने देश को और समाज को बांटने वाली सरकार का खात्मा किया है. ये जीत एकता-अमन में विश्वास करने वाली जनता की जीत और अहंकारी सत्ता के अंत की शुरुआत है. गठबंधन की जीत साबित करती है कि प्रदेश के किसानों और बेरोजगारों ने भाजपा सरकार को मुंहतोड़ जवाब दिया है. Also Read - 54 जिलों से हैं 50% प्रवासी, 44 यूपी-बिहार के ही, PM मोदी का वाराणसी, योगी का गोरखपुर, अखिलेश का इटावा लिस्ट में

कैराना लोकसभा सीट के उपचुनाव में आरएलडी की तबस्‍सुम हसन और नूरपुर में सपा प्रत्‍याशी की जीत पर पूर्व मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव ने पार्टी कार्यालय पर प्रेस कांफ्रेंस की. उन्होंने कहा कि दोनों सीटों की जीत ने देश को और समाज को बांटने वाली सरकार का खात्मा किया है. कहा कि पार्टी ने भाजपा को उसी के तरीके से मात दी है. जब हम विकास की बात करते थे, तो वो सामाजिक बात करते थे. समाजवादी लोगों ने अब उन्हीं से सीख कर दलितों, किसानों के मुद्दे उठाए हैं. उन्‍होंने कहा कि भाजपा चाहती थी कि मुद्दों को बदल दिया जाए, लेकिन जनता ने वोट के माध्‍यम से उनके धोखे का जवाब दिया है. यहां के नतीजे देश की राजनीति के लिए एक बड़ा संदेश है.

कैराना की जीत से RLD को मिली संजीवनी, मुजफ्फरनगर दंगों के बाद जाट-मुस्लिम गठजोड़ में कामयाब

योगी के भाषण से डरकर नहीं गए कैराना

कैराना प्रचार करने नहीं जाने के सवाल पर अखिलेश प्रदेश ने कहा कि वे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के भाषण से डर गए थे. इसके कारण वे वहां प्रचार करने नहीं गए. उपचुनाव के नतीजों पर बोलते हुए अखिलेश ने कहा कि मैं सहयोगी दलों के नेताओं खासकर राष्ट्रीय लोकदल के राष्ट्रीय अध्यक्ष अजीत चौधरी और राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयंत चौधरी को धन्यवाद देता हूं. उन्होंने जनता को भी धन्यवाद देते हुए कहा कि इस चुनाव में उन लोगों की हार हुई है, जो लोकतंत्र में विश्वास नहीं करते हैं.