लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी के गुडंबा थाना क्षेत्र में कुर्सी रोड पर मूलरूप से भदोही के रहने वालेे राज्य स्तरीय एथलीट रंगराजन पांडेय (22) की गोली मारकर हत्या कर दी गई. वह स्पोर्ट्स कॉलेज का पूर्व छात्र था. घटना की सूचना पर पहुंची पुलिस हत्‍यारोपियों की तलाश में जुटी हुई है. हालांकि पुलिस हत्या के पीछे रंजिश व प्रेम प्रसंग की दिशा में भी जांच-पड़ताल कर रही है.

UP: भदोही में 160 फीट ऊंचे टावर पर चढ़ा सिरफिरा, हंगामा

अपर पुलिस अधीक्षक ट्रांस गोमती हरेंद्र कुमार के मुताबिक, राज्य स्तरीय एथलीट रंगराजन मूलरूप से भदोही का रहने वाला था. उसने 2010 में स्पोर्ट्स कॉलेज में दाखिला लिया और वर्ष 2015 तक वहां रहा. अब वह स्पोर्ट्स कॉलेज के सामने ही बीएस-टू कॉलोनी में किराए का कमरा लेकर रह रहा था. बुधवार देर रात रंगराजन को उसके किसी परिचित ने फोन कर बुलाया था. वह दोस्त अविनाश और रोहित अवस्थी के साथ स्पोर्ट्स कॉलेज से करीब तीन किलोमीटर दूर एक स्कूल के पास पहुंचा. इस दौरान वहां पहले से मौजूद लोगों से किसी बात कर लेकर विवाद हो गया और अज्ञात हमलावर ने गोली मार दी. गंभीर अवस्था में घायल रंगराजन को इलाज के लिए ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया, जहां उसकी मौत हो गई.

रंगराजन पांडेय ने 400 मीटर बाधा दौड़ में प्रदेश का नाम किया था रोशन
अपर पुलिस अधीक्षक का कहना है कि वारदात की सूचना रंगराजन के पिता फूलचंद पांडेय को दे दी गई है. उसके चाचा दरोगा हैं और उन्नाव में तैनात हैं. देर रात वह भी लखनऊ पहुंच गए. पुलिस उसके दोस्तों से वारदात के बारे में जानकारी ले रही है. रंगराजन पांडेय ने 400 मीटर बाधा दौड़ में प्रदेश का नाम रोशन किया था. स्वर्ण पदक जीतने के साथ ही उसने वर्ष 2013 में आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा में आयोजित अंडर-18 की राष्ट्रीय प्रतियोगिता में चौथा स्थान हासिल किया था.

आपसी रंजिश में हत्‍या होने की आशंका
एएसपी ने बताया कि रंगराजन 2014 में गुडंबा से ही हत्या के प्रयास के मामले में जेल जा चुका था. स्पोर्ट्स कॉलेज में गुटबाजी को लेकर रंगराजन ने दूसरे पक्ष के एक युवक को गोली मार दी थी. उसके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज हुई और पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. बाद में वह जमानत पर छूटा. उन्होंने बताया कि शुरुआती जांच में पता चला है कि दूसरे गुट के लड़के रंगराजन के नाम से किसी को धमका रहे थे. रंगराजन तक यह जानकारी पहुंची तो उसने नाराजगी जताई थी. इस बात को लेकर दूसरे गुट से तनातनी चल रही थी. दूसरे गुट के लोगों ने उसे फोन कर बुलाया और झगड़े के बाद गोली मार दी. पुलिस हमलावरों की तलाश कर रही है.