नई दिल्ली: वंदे भारत एक्सप्रेस पर बुधवार को एक पत्थर फेंका गया, जिससे इसकी खिड़की के शीशे टूट गए. भारत की सबसे तेज रेलगाड़ी के साथ दो महीने में ऐसी तीसरी घटना हुई है. उत्तर रेलवे के प्रवक्ता दीपक कुमार ने यह जानकारी देते हुए बताया कि रेलगाड़ी टुंडला स्टेशन पार कर रही थी, तभी यह घटना घटी. इस सेमी हाई स्पीड रेलगाड़ी का संचालन 17 फरवरी से शुरू हुआ है. ऐसे में ये सवाल उन लोगों से हैं, जो ट्रेन पर पथराव कर रहे हैं. क्‍या अपने राष्‍ट्र की संपत्‍त‍ि को नुकसान पहुंचाकर आपको कोई फायदा होने वाला है. ट्रेन पर पथराव या तो शरारत है या फिर सोचा समझकर की गई वारदात. ऐसे में लोगों को जरूरत है कि ऐसे लोगों को खासतौर पर ऐसे नवयुवक और बच्‍चों को समझाने की जरूरत है, जो ऐसा कर रहे हैं.

पंजाब विधानसभा ने प्रस्ताव पारित किया, जलियांवाला बाग नरसंहार के लिए ब्रिटिश सरकार माफी मांगे

इससे पहले दिल्ली और आगरा के बीच पिछले वर्ष दिसंबर में ट्रायल रन के दौरान भी रेलगाड़ी पर पत्थर फेंके गए थे. उस महीने में इस तरह की एक और घटना हुई थी. पथराव की पहली घटना के बाद रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) ने उन इलाकों में अभियान की शुरुआत की थी, जहां रेलगाड़ी पर पत्थर फेंके गए थे.

वॉट्सऐप पर दिया ट्रिपल तलाक, 21 साल की महिला बोली- कानूनी जंग लड़ूंगी

बता दें कि पुलवामा आतंकवादी हमले की पृष्ठभूमि में गमगीन माहौल के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से भारत की पहली सेमी-हाई स्पीड ट्रेन वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाई. इस अवसर पर गोयल और रेलवे बोर्ड के सदस्य उपस्थित थे और ट्रेन के इस उद्घाटन सफर का हिस्सा बने.