नई दिल्ली: ताजमहल को छह जुलाई से जनता के लिए फिर खोलने के फैसले को यूपी सरकार ने वापस ले लिया है. बता दें कि सोमवार यानी छह जुलाई से भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) द्वारा संरक्षित देश भर के स्मारक और ऐतिहासिक स्थल खोले जाने हैं, लेकिन कोरोना संक्रमण को देखते हुए आगरा में ताजमहल और दूसरे स्मारक अभी नहीं खोले जाएंगे. ताजमहल पिछले 17 मार्च से बंद है.

आगरा के जिलाधिकारी प्रभुनाथ सिंह ने पुरातत्व विभाग के साथ हुई बैठक में यह फैसला लिया और इस संबंध में रविवार देर शाम आदेश पारित किया. इससे पहले संस्कृति मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को कहा कि भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) द्वारा संरक्षित सभी स्मारक छह जुलाई से जनता के लिए फिर खुल जाएंगे जिनमें केवल ई-टिकट से प्रवेश मिलेगा और पर्यटकों की संख्या सीमित रखी जाएगी. इसके अलावा पर्यटकों के लिए मास्क पहनना अनिवार्य होगा. हालांकि अब इस फैसले पर रोक लग गई है.

डीएम ने कहा कि आगरा में कोरोना की मौजूदा स्थिति को ध्यान में रखते हुए ताजमहल, आगरा किला, सिकंदरा, फ़तेहपुर सीकरी जैसे सभी संरक्षित स्मारकों को ‘बफर जोन’ मानते हुए अग्रिम आदेशों तक फिलहाल न खोले जाने का निर्णय लिया गया है. डीएम ने कहा कि कोरोना का खतरा अभी टला नहीं है और स्थिति को देखते हुए ही आगे का निर्णय लिया जाएगा. जिला प्रशासन के मुताबिक सोमवार से कोई धार्मिक स्थल भी दर्शानार्थियों के लिए नहीं खुलेगा.

इससे पहले जून में संस्कृति मंत्रालय ने एएसआई के रख-रखाव वाले 3,000 से अधिक स्मारकों में से 820 को फिर खोल दिया था जहां धार्मिक समारोह होते हैं. कोरोना वायरस संकट के मद्देनजर 17 मार्च से केंद्र सरकार द्वारा संरक्षित 3,691 स्मारक और पुरातत्व स्थल बंद थे जिनकी देखभाल एएसआई करता है.