आगरा: एक दक्षिणपंथी संगठन ने ताजमहल के अंदर पूजा करने की धमकी दी है. संगठन ने आरोप लगाया है कि कुछ मुसलमानों ने शुक्रवार के अलावा अन्य दिन ताजमहल में नमाज अदा करने पर लगी भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) की पाबंदी की अवज्ञा की है.

सीआईएसएफ के एक कमांडेंट ने कहा कि बुधवार को नमाज अदा किए जाने की कथित घटना की जांच की जा रही है. स्थानीय लोग इस बात पर जोर दे रहे हैं कि उन्हें रोजाना ही अंदर जाकर प्रार्थना करने की इजाजत दी जाए.

गाजियाबाद: 4 नाबालिगों पर मंदिर में तोड़फोड़ का आरोप, हंगामे के बाद मुकदमा दर्ज

वहीं, मुस्लिम नेताओं ने झूठ के बहाने साम्प्रदायिक तनाव पैदा करने के लिए एएसआई को जिम्मेदार ठहराया है. इस कथित घटना पर टिप्पणी करते हुए राष्ट्रीय बजरंग दल के जिला प्रमुख गोविंद पाराशर ने कहा, ‘‘हम सुप्रीम कोर्ट के आदेशों का उल्लंघन करने वालों को दंडित किया जाना चाहते हैं, अन्यथा हमें आरती करने की इजाजत दी जाए.’’ वहीं, एएसआई ने दावा किया है कि वह न्यायालय के निर्देश का पालन कर रहा है.

बच्चे के बाद बंदरों ने महिला की ली जान, शिकायत पर CM योगी ने हनुमान चालीसा पढ़ने की दी थी सलाह

इस बीच, सोशल मीडिया पर शनिवार को एक वीडियो वॉयरल हुआ है जिसमें कुछ महिलाएं ताजमहल में गंगा जल लेकर प्रवेश करती दिख रही हैं और मंत्रोच्चार कर रही हैं. इस बारे में ताजमहल के वरिष्ठ संरक्षण सहायक अंकित नामदेव ने कहा कि वीडियो की जांच की जा रही है. ड्यूटी पर तैनात सुरक्षाकर्मियों से भी पूछताछ की जा रही है.