लखनऊ: लखनऊ नगर निगम और यूरोपियन संघ के प्रतिनिधियों के बीच राजधानी में सिस्टेमेटिक अर्बन डेवलपमेंट और मूलभूत सुविधाओं के विकास के लिए एक एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए.इसके जरिए यूनियन और निगम लखनऊ में बुनियादी सुविधाओं का विकास करेंगे. यूरोपीय संघ की ओर से देश के शेष 11 शहरों और यूरोपीय संघ के 12 शहरों के बीच एक करार किया जाएगा. जिसमें देश के सूरत, चेन्नई जैसे शहर भी शामिल हैं. सबसे खास बात यह है कि यूरोपीय संघ इसमें देश के चुने गए सभी 12 शहरों के नगर निगमों को धन भी मुहैया कराएगा.Also Read - UP: सरकरी स्‍कूल के 5 टीचर्स ने क्‍लास में किया डॉन्‍स, Video Viral होने पर गिरी सस्‍पेंशन की गाज

एमओयू पर करार होने के बाद महापौर संयुक्ता भाटिया ने बताया कि यूरोपीय संघ देश के सभी चुने गए 12 शहरों को स्मार्ट सिटी बनाने और नागरिक सुविधाओं का विस्तार करने में लोकल एडमिनिस्ट्रेशन की मदद करेगा. साथ ही यूरोपीय संघ इसमें नई-नई तकनीकों के माध्यम से विकास में मदद करेगा और जहां कहीं किसी प्रोजेक्ट में फंड की कमी सामने आएगी उसे भी पूरा करेगा. इस करार को एक बड़ी उपलब्धि बताते हुए उन्होंने कहा कि आने वाले समय में इससे राजधानी लखनऊ का तेजी से विकास हो सकेगा. Also Read - UP Covid Vaccinations: कोविड टीकाकरण 10 करोड़ पार करने वाला पहला राज्य बना यूपी, जानिए टॉप 5 में और कौन?

लखनऊ नगर निगम की तरफ से समझौते पर हस्ताक्षर
लखनऊ नगर निगम और इंटरनेशनल शहरी कार्यक्रम के बीच एक साझीदारी समझौता लखनऊ नगर निगम में हस्ताक्षर किए गए. लखनऊ के महापौर संयुक्ता भाटिया और आयुक्त उदय राज सिंह ने लखनऊ नगर निगम की तरफ से इस समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं, जबकि पिएर रॉबटरे रेमिटी ने ईयू-आईयूसी कार्यक्रम की ओर से समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं Also Read - UP: मुख्तार अंसारी के सहयोगी की 4 मंजिला बिल्‍डिंग की जा रही ध्वस्त, इमारत की कीमत 10 करोड़ रुपए

बता दें कि यूरोपीय संघ ने एशिया और उत्तरी और दक्षिण अमेरिका के ईयू शहरों और साथी शहरों के बीच स्थायी शहरी विकास पर सहयोग को बढ़ावा देने के लिए अंतर्राष्ट्रीय शहरी सहयोग (आईयूसी) कार्यक्रम विकसित किया है.