लखनऊ: सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के अध्‍यक्ष और यूपी सरकार में कैबिनेट मंत्री ओपी राजभर ने भाजपा पर जोरदार हमला बोला है. पार्टी की स्‍थापना दिवस की रैली में राजभर ने कहा कि मैं सत्‍ता का स्‍वाद चखने के लिए नहीं आया हूं, गरीबों के लिए लड़ाई लड़ने आया हूं. ये लड़ाई लड़ू या भाजपा का गुलाम बनकर रहूं. आज तक एक कार्यालय तक नहीं दिया. मैंने तो मन बनाया है कि आज इस मंच से मैं इस्‍तीफा देने की घोषणा करूंगा. हालांकि रैली में समर्थकों ने राजभर को इस्‍तीफा देने से मना कर दिया.Also Read - सपा के शासन में जाली टोपी वाले गुंडे व्यापारियों को धमकाते थे, UP Dy CM केशव मौर्य

Also Read - Bihar: विधानसभा परिसर में DM, SSP की कार को रास्‍ता देने के लिए मंत्री की कार रोकी पुलिसकर्मी ने, अब हाई लेविल की जांच के आदेश

Also Read - राहुल गांधी का केंद्र पर बड़ा हमला, कहा- आंदोलन में जान गंवाने वाले 700 किसानों के परिजनों के बारे में सोचें पीएम, मुआवजा दें

आज सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) का 16वां स्थापना दिवस राजधानी लखनऊ के रमाबाई आंबेडकर मैदान में बड़े धूमधाम से मनाया गया. इस दौरान पार्टी की ओर से आयोजित महारैली यूपी सरकार में कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने बीजेपी पर जोरदार हमला बोलते हुए कहा कि मेरा मन टूट गया है. ये (बीजेपी) हिस्‍सा देना नहीं चाहती. जब भी गरीब के सवाल पर हिस्‍से की बात करता हूं तो ये मंदिर की बात करते हैं. मस्जिद की बात करते हैं. हिन्‍दू-मुस्लिम की बात करते हैं.

बड़ी संख्‍या में भीड़ रही मौजूद

लखनऊ के रमाबाई आंबेडकर मैदान में ‘गुलामी छोड़ो-समाज जोड़ो’ के नारे के साथ शुरू हुई महारैली में पिछड़ा, अति पिछड़ा व अति दलित जाति में बंटवारा करने व दलित के बीच आरक्षण के बंटवारे की मांग को लेकर लड़ाई का ऐलान भी किया गया है. इस दौरान बड़ी संख्‍या में पार्टी के कार्यकर्ता और भीड़ मौजूद रही.

लखनऊ में आज ओपी राजभर की बड़ी रैली, लोकसभा चुनाव 2019 में NDA से रिश्‍ते पर होगा फैसला

राजभर ने रैली स्‍थल में खुद बांधे झंडे व बैनर

बता दें कि इससे पहले शुक्रवार को राजभर ने पूरे दिन महारैली के लिए तय स्थल रमाबाई मैदान में व्यतीत किया था. साथ ही अपनी पार्टी के झंडे और बैनर खुद भी बांधे थे. इस दौरान राजभर ने कहा कि रमाबाई अंबेडकर मैदान से 2019 और 2022 के चुनाव के लिए वह बड़ा फैसला लेंगे. कुछ भी हो सकता है. कहा कि फैसले कार्यकर्ताओं की सहमति से लिए जाएंगे. 2019 में कहां रहना है, यह कार्यकर्ता ही तय करेंगे.