लखनऊ: उत्तर प्रदेश एवं उत्तराखण्ड के पूर्व मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी का पार्थिव शरीर शनिवार 20 अक्टूबर को दोपहर 12 बजे लखनऊ हवाई अड्डा पहुंचेगा. तदोपरान्त दोपहर एक बजे से तीन बजे तक उनका पार्थिव शरीर दर्शनार्थ विधान भवन में रखा जाएगा. राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने शुक्रवार को बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर उप मुख्यमंत्री डॉक्टर दिनेश शर्मा कल प्रातः आठ बजे तिवारी के नई दिल्ली स्थित आवास पर जाएंगे. तत्पश्चात 11 बजे एयर एम्बुलेंस से पूरे सम्मान के साथ उनके पार्थिव शरीर को लेकर मध्यान्ह 12 बजे लखनऊ हवाई अड्डा पहुंचेंगे. Also Read - COVID-19: उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 116 हुई

लखनऊ हवाई अड्डे पर मुख्यमंत्री तथा मंत्रिमण्डल के अन्य सदस्य नारायण दत्त तिवारी को श्रद्धांजलि देंगे और उनके पार्थिव शरीर को ससम्मान विधानभवन लेकर जाएंगे. विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित तथा गणमान्य व्यक्ति विधानभवन में तिवारी के पार्थिव शरीर पर श्रद्धासुमन अर्पित करेंगे. प्रवक्ता ने बताया कि इसके बाद अल्पसंख्यक कल्याण राज्य मंत्री बलदेव ओलख उनके पार्थिव शरीर को लेकर पंतनगर, उत्तराखण्ड जाएंगे. जहां उनका अन्तिम दर्शन कर श्रद्धांजलि अर्पित की जा सकेगी. Also Read - यूपी में लड़की हुई 'कोरोना', लड़का हुआ 'लॉकडाउन', दोनों के लिए चल रहा जश्न, जानें मामला

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के विकास और समृद्धि के लिए तिवारी ने महत्वपूर्ण कार्य किए. उत्तर प्रदेश से उनके गहरे जुड़ाव व राज्य के विकास में उनके योगदान के लिए उन्हें हमेशा याद किया जाएगा. उन्होंने उत्तराखण्ड के विकास में भी अपना योगदान दिया. तिवारी द्वारा इन राज्यों में अनेक कल्याणकारी एवं विकास की योजनाओं का क्रियान्वयन किया गया, जिससे समाज के सभी वर्ग लाभान्वित हुए. विकास पुरुष के रूप में वे सदैव याद किए जाएंगे. Also Read - निजामुद्दीन मरकज में शामिल हुए 157 लोगों की यूपी में तलाश, 8 इंडोनेशियाई बिजनौर की मस्जिद में मिले