बलिया: समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं उत्तर प्रदेश विधानसभा में विरोधी दल के नेता राम गोविंद चौधरी ने राम जन्म भूमि मंदिर निर्माण के मुद्दे को लेकर आरएसएस प्रमुख विष्णु भागवत पर पलटवार करते हुए उनसे सवाल पूछा है कि संघ को चुनाव के कुछ माह पहले ही राम मंदिर की याद क्यों आती है ? पिछले 2 साल से उन्होंने इस मुद्दे पर  चुप्पी क्यों साध रखी थी ? Also Read - Bihar Assembly Election 2020: बीच चुनाव नीतीश से 'दूरी' बनाने लगी भाजपा, 10 नवंबर को राज्य में बदलेगा नेतृत्व!

Also Read - Bihar Polls 2020: बिहार में पहले चरण के चुनाव प्रचार का आज आखिरी दिन, कई दिग्गजों की रैलियां- मतदान 28 को...

महि‍ला वकील के साथ होटल में गए दारोगा को बीजेपी पार्षद ने जमकर पीटा, देखें ये VIDEO Also Read - भाजपा का बड़ा आरोप, कांग्रेस ने जमात-ए-इस्लामी, पीएफआई जैसे संगठनों से समझौते किए

खामोश क्यों थे ?

चौधरी ने शुक्रवार रात पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि संघ प्रमुख मोहन भागवत को एक बार फिर राम मंदिर की याद आ गई है. संघ और भाजपा समर्थक संत भी मंदिर को लेकर फिर से माहौल गरमाने लगे हैं. उन्होंने सवाल किया कि चुनाव के ऐन वक्त पहले ही इनको राम मंदिर की क्यों याद आ रही है. पिछले दो वर्ष यह खामोश क्यों रहे.

राम स्वयं भाजपा को बर्बाद करेंगे !

उन्होंने कहा कि भगवान राम मर्यादा पुरुषोत्तम हैं और आस्था के प्रतीक हैं. वह स्वयं भाजपा को बर्बाद करेंगे. उन्होंने कहा कि भाजपा हर मसले पर पूरी तरह से फिसड्डी साबित हुई है. किसी भी वादे को पूरा नही कर पाई है. कानून व्यवस्था की स्थिति बदतर है. डीजल एवं पेट्रोल की बढ़ती कीमत से जनता कराह रही है. इसके कारण जनता में भाजपा की लोकप्रियता बहुत तेजी के साथ खत्म हो रही है. उन्होंने कहा कि इसको लेकर आम लोगों का ध्यान देश के बुनियादी समस्याओं से हटाने के लिये एक बार फिर भाजपा एवं उसके सहयोगी राम मंदिर का मसला गरमा रहे हैं. (इनपुट एजेंसी)

विश्व हिन्दू परिषद की योगी से मांग, फैजाबाद का नाम बदल कर ‘श्री अयोध्या’ करें