लखनऊ: उत्‍तर प्रदेश के मुरादाबाद जिले के जिला कारागार में दो हिन्‍दू बंदियों ने धर्म परिवर्तन कर मुस्लिम धर्म अपना लिया. इसको लेकर शिवसेना ने धरना-प्रदर्शन कर दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की मांग की है. वहीं जिला कारागार से संबंधित इस मामले का संज्ञान लेते हुए अपर नगर मजिस्ट्रेट ने इस पूरे प्रकरण में जांच के आदेश दे दिए हैं. Also Read - Lockdown के बीच महाराष्ट्र की सियासत में हलचल, शरद पवार ने एक हफ्ते में दूसरी बार की CM ठाकरे से मुलाकात

Also Read - कोरोना के बढ़ते मामलों पर बोले संजय राउत- अहमदाबाद में आयोजित 'नमस्ते ट्रंप' कार्यक्रम से भारत में फैला वायरस

शामली के युवक ने प्रेमिका से प्‍यार में बदला धर्म, फिर हुई ‘घर वापसी’ Also Read - 54 जिलों से हैं 50% प्रवासी, 44 यूपी-बिहार के ही, PM मोदी का वाराणसी, योगी का गोरखपुर, अखिलेश का इटावा लिस्ट में

शिवसेना के जिला प्रमुख डॉ. रामेश्वर दयाल तुरैहा ने इस मामले में मंगलवार को एक ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपा है, जिसकी प्रति प्रधानमंत्री मोदी और मुख्यमंत्री योगी को भी भेजी गई है. उन्होंने कहा कि मुरादाबाद जिला कारागार में पंकज पुत्र धर्मपाल और कपिल पुत्र राकेश बंदी हैं, जिन्होंने जेल के अंदर मुस्लिम धर्म अपना लिया है. दोनों बंदी किसी के प्रलोभन में आकर नमाज पढ़ने लगे हैं. साथ ही वह अन्य मुस्लिम धार्मिक कार्य भी करने लगे हैं. शिवसेना ने वरिष्ठ जेल अधीक्षक पर इस पूरे मामले में संलिप्तता होने का आरोप लगाया है.

UP के बागपत में मुस्लिम परिवार ने अपनाया हिन्‍दू धर्म, जानें घटना में क्‍यों आ रहा पुलिस का नाम?

मुरादाबाद के हिंदुओं व हिंदू संगठनों में गहरा रोष

यहां कहा गया कि उन्होंने जेल मैनुअल के प्रस्तर 724 के तहत जिला मजिस्ट्रेट मुरादाबाद व महानिरीक्षक कारागार को भी अवगत नहीं कराया है और ना ही कोई कार्रवाई की है. शिवसेना ने आगे कहा कि गंगा जमुना की तहजीब वाले शहर के जिला कारागार में हिंदू और मुस्लिम की आबादी लगभग बराबर है. हिंदू बंदियों द्वारा मुस्लिम धर्म व तौर तरीके अपनाए जाने से कारागार व मुरादाबाद के हिंदुओं व हिंदू संगठनों में गहरा रोष है, जिससे कभी भी कारागार, शहर, प्रदेश व देश में माहौल खराब हो सकता है.

RTI में हुआ खुलासा: महाराष्ट्र में 1,687 लोगों ने 4 साल में किया धर्म परिवर्तन

मामले की जांच के आदेश दिए

अपर नगर मजिस्ट्रे सुनील त्रिवेदी ने इस पूरे मामले में कहा कि शिवसेना की मुरादाबाद इकाई की तरफ से एक ज्ञापन सौंपा गया है, जिसमें कहा गया है कि हिंदू कैदियों द्वारा मुस्लिम धर्म अपना लिया गया है. इस मामले में जांच के लिए संबंधित अधिकारियों को कहा गया है. जांच के बाद ही इस मामले में कुछ कहा जा सकता है.