लखनऊ: कांग्रेस नेता तलत अजीज ने वर्ष 1999 में एक पुलिस हेड कांस्टेबल की हत्या के मामले में उत्तर प्रदेश के महराजगंज की एक अदालत द्वारा हाल में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को समन जारी किये जाने के बाद प्रदेश सरकार से अपनी और अपने परिवार की जान को खतरा बताया है. Also Read - UP: हेड कांस्टेबल ने उठाया खौफनाक कदम, पत्‍नी की हत्‍या की, चलती ट्रेन के सामने कूदकर की सुसाइड

Also Read - Corona Pandemic: PM मोदी ने 4 राज्‍यों के मुख्यमंत्रियों से कोविड-19 की स्थिति पर की बात

उत्तर प्रदेश कांग्रेस की वरिष्ठ कार्यकारिणी सदस्य तलत अजीज ने पार्टी प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर की मौजूदगी में संवाददाताओं से बातचीत में आरोप लगाया कि अदालत द्वारा हाल में उनकी याचिका पर योगी के खिलाफ मामले की फाइल फिर से खोलने का आदेश दिये जाने के बाद उन्हें और उनके परिवार को तरह-तरह की धमकियां मिल रही हैं. तलत ने हालांकि मुख्यमंत्री और भाजपा का नाम नहीं लिया. उन्होंने कहा कि महराजगंज मामले में याचिका दायर करने के पीछे उनका एकमात्र मकसद 10 फरवरी 1999 को महराजगंज कोतवाली क्षेत्र में एक चक्काजाम कार्यक्रम के दौरान कथित रूप से योगी के भड़काऊ भाषण के बाद हुई हिंसा में मारे गये हेड कांस्टेबल सत्य प्रकाश यादव को न्याय दिलाना है. बता दें कि महराजगंज की एक अदालत ने तलत की याचिका पर हाल में इस मामले को दोबारा खोलने का आदेश देते हुए योगी को समन जारी किया था. Also Read - 21 मई से उत्तर प्रदेश के सभी राशन कार्ड धारकों को मिलेगा मुफ्त राशन, नहीं दिया जाएगा चना

एथलीट सुधा सिंह को CM योगी ने दिया था नौकरी का आश्‍वासन, जानें कौन बना रोड़ा

राज बब्बर ने मुख्यमंत्री योगी पर बोला हमला

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर ने इस मामले को लेकर मुख्यमंत्री योगी पर हमला करते हुए कहा कि तलत पर सारा दबाव इसलिये ड़ाला जा रहा है, ताकि वह मजबूर होकर मुकदमा वापस ले लें. उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी इसे मुद्दा नहीं बनाना चाहती, क्योंकि सत्तारूढ़ भाजपा पहले ही चुनाव के मद्देनजर चीजों को हिन्दू और मुस्लिम में बांटना चाह रही है, लेकिन कांग्रेस का मकसद है कि इस मामले में इंसाफ हो. बब्बर ने कहा कि तलत के परिवार को प्रताड़ित करने के लिये कुछ राजनेताओं ने पुलिस से साठगांठ करके उनके पति पर मुकदमा दर्ज कराया है. इसके अलावा अन्य तमाम हथकंडे अपनाये जा रहे हैं, ताकि वह मुकदमा वापस ले लें.